चंद्रयान फेल होने पर भारतीय दुखी, 90 लाख कश्मीरियों पर क्यों नहीं: इल्तिजा मुफ्ती

इल्तिजा मुफ्ती की मां महबूबा मुफ्ती को हिरासत में रखे जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसका कारण बताया गया कि एहतियात के तौर पर उन्हें हिरासत में लिया गया ताकि स्थिति खराब नहीं हो. मैं पूछती हूं कि देश में मॉब लिंचिंग की इतनी घटनाएं हो रही हैं, क्या एहतियात के तौर पर किसी को हिरासत में लिया गया.

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में इल्तिजा मुफ्ती
aajtak.in
  • मुंबई,
  • 20 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 10:25 PM IST

  • कश्मीर के लोगों को विश्वास में लेने की जरूरत- इल्तिजा मुफ्ती
  • 'लिंचिंग की घटना पर किसी को हिरासत में नहीं ले रही सरकार'
  • दो महीने से कश्मीर में इमरजेंसी जैसे हालात -इल्तिजा मुफ्ती

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 के मुंबई एडिशन का आगाज हो गया. कार्यक्रम की शुरुआत इंडिया टुडे ग्रुप के चेयरमैन और एडिटर-इन-चीफ अरुण पुरी के संबोधन से हुई. दो दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम में राजनीति, मनोरंजन, अर्थ और कला क्षेत्र के नामचीन हस्तियां शिरकत कर रहे हैं. जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की बेटी इल्तिजा मुफ्ती ने 'The Sound of Silence: How can hearts be won in Kashmir?' सेशन में इंडिया टुडे के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई के सवालों का बेबाकी से जवाब दिया.

राजदीप सरदेसाई ने इल्तिजा से पूछा कि मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार पर आरोप लगता रहा है कि उन्हीं के कारण कश्मीर का ये हाल हुआ है. इस पर इल्तिजा मुफ्ती ने कहा, 'ये गलत है. कश्मीर के लोगों को गलत नजर से देखा जाता है. आप कश्मीर के युवाओं को कहते हैं कि वे पत्थरबाज हैं. उन्होंने कहा कि यह सही नहीं है हम भी आपके जैसा हैं. सभी पत्थरबाज नहीं हैं. आप गलत सोचते हैं.'

लिंचिंग पर कोई नहीं हिरासत?

इल्तिजा मुफ्ती की मां महबूबा मुफ्ती को हिरासत में रखे जाने के सवाल पर उन्होंने कहा, 'इसका कारण बताया गया कि एहतियात के तौर पर उन्हें हिरासत में लिया गया ताकि स्थिति खराब नहीं हो. मैं पूछती हूं कि देश में मॉब लिंचिंग की इतनी घटनाएं हो रही है, क्या एहतियात के तौर पर किसी को हिरासत में लिया गया. हरियाणा में रेप की इतनी घटनाएं हो रही हैं, एहतियातन किसी को हिरासत में लिया गया क्या? फिर मेरी मां को क्यों?

अनुच्छेद 370 के मुद्दे पर इल्तिजा मुफ्ती ने कहा, 'सरकार का तरीका बिल्कुल गलत है. यह प्रक्रिया पूरी तरह से असंवैधानिक है. इतना बड़ा फैसला लिया गया लेकिन कश्मीरियों की राय नहीं ली गई. कश्मीर में जब पर्यटन का मुख्य सीजन था तभी अचानक पर्यटकों को वापस बुला लिया गया. भारी संख्या में सेना के जवानों को तैनात किया गया. हमें लगा कि पाकिस्तान हमला करने वाला है. शायद इसलिए ऐसी तैयारी हो रही है. लेकिन अचानक अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला लिया गया.'

हकीकत नहीं दिखा रहा मीडिया

मुफ्ती ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर बोला गया कि यह कश्मीर के हित में है और अब इसके बाद कश्मीर का विकास होगा. यह गलत है, इसका कश्मीर के विकास से कुछ लेनादेना नहीं है. देश में मंदी है. विकास दर गिर रहा है. इन मुद्दों को दबाने के लिए ही अनुच्छेद 370 हटाने जैसी कार्रवाई की गई है. इल्तिजा ने मीडिया पर भी सवाल उठाए और कहा कि मीडिया कश्मीर की ग्राउंड रिपोर्ट नहीं दिखा रही.

उन्होंने कहा कि कश्मीर में 90 लाख लोग परेशानियों का सामना कर रहे हैं. दो महीने से उनका जनजीवन प्रभावित है. जब चंद्रायान फेल हुआ तो देश के लोग भावनात्मक और दुखी हो गए लेकिन कश्मीर के हालत पर नहीं, ऐसा क्यों हैं. कश्मीर को सही करना है तो कश्मीरियों को विश्वास में लेना होगा.

Read more!

RECOMMENDED