LoC पर पहुंचे सेना प्रमुख बिपिन रावत, सेना की तैयारियों का लिया जायजा

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर की अपनी दो दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन नियंत्रण रेखा (LoC) का दौरा किया. इस दौरान उनके साथ सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह भी मौजूद रहे.

एलओसी पर सैनिकों के साथ सेना प्रमुख
मंजीत नेगी
  • पुंछ,
  • 31 अगस्त 2019,
  • अपडेटेड 10:39 PM IST

  • सेना प्रमुख के कश्मीर दौरे का दूसरा दिन
  • सीमा पर जवानों की तैयारियों का जायजा
  • 370 हटने के बाद बिपिन रावत का पहला कश्मीर दौरा

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने जम्मू कश्मीर की अपनी दो दिवसीय यात्रा के दूसरे दिन नियंत्रण रेखा (LoC) पर सेना की स्थिति और तैयारियों का जायजा लिया. इस दौरान उनके साथ सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह भी मौजूद रहे. इन्होंने सेना की वर्तमान स्थिति और व्हाइट नाइट कॉर्प्स के इकाइयों की स्थिति की समीक्षा की.

अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किए जाने और राज्य में पाबंदियां लगाए जाने के बाद जनरल रावत की यह पहली जम्मू कश्मीर यात्रा है. जनरल रावत ने नियंत्रण रेखा के अग्रिम क्षेत्रों में पहुंचकर कमांडरों और सैनिकों से बातचीत की, जिन्होंने उन्हें सेना की तैयारियों, खासकर नियंत्रण रेखा पर तैयारियों के बारे में बताया.

एक्शन से निपटने की तैयारी

आर्मी चीफ बिपिन रावत को व्हाइट नाइट कॉर्प्स के जनरल कमांडिंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल परमजीत सिंह संघा ने वहां की स्थिति के बारे में जानकारी दी. बिपिन रावत ने सेना की इकाइंयों की तैयारी, सीजफायर उल्लंघन का जवाब देने वाले मैकेनिज्म, पाकिस्तान की तरफ से की जाने वाली गोलीबारी से निपटने के लिए अपनाए गए उपायों, घुसपैठ को रोकने और मुकाबला करने समेत एलओसी पर हिंसक कार्रवाई से निपटने की तैयारी की जानकारी प्राप्त की.

इसके अलावा, सेना प्रमुख को उन भारत विरोधी तत्वों से निपटने की रणनीति पर भी जानकारी दी गई जो पीर पंजाल के दक्षिण में आतंकवाद को पुनर्जीवित करने और निर्दोष युवाओं को कट्टरपंथी बनाने की कोशिश में लगे हुए हैं.

सैनिकों के शौर्य को सराहा

अपनी यात्रा के दौरान सेना प्रमुख ने नियंत्रण रेखा पर तैनात सैनिकों के साथ बातचीत की और उन्हें कर्तव्य के प्रति अटूट समर्पण, निस्वार्थ भावना और कर्तव्य के लिए जान की बाजी लगाने वाले सैनिकों की सराहना की. साथ ही उन्होंने सैनिकों के सुरक्षित वातावरण और मिशन की तत्परता सुनिश्चित करने के लिए संस्थागत रूप से किए गए उपायों की भी सराहना की.

उन्होंने सिविल एडमिनिस्ट्रेशन के साथ तालमेल पर अपनी संतुष्टि व्यक्त करते हुए व्हाइट नाइट कॉर्प्स द्वारा उठाए गए लोगों के अनुकूल उपायों की सराहना की. बता दें कि शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर की अपनी दो दिवसीय यात्रा के पहले दिन सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने नियंत्रण रेखा पर सैन्य बलों की तैयारियों की समीक्षा की थी.

Read more!

RECOMMENDED