अमित शाह की रैली के पहले छावनी में तब्दील हुआ जींद, 80 कंपनियां तैनात

अब जाटों के बाद हरियाणा के विपक्षी दल आईएनएलडी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भी अपने-अपने तरीके से अमित शाह का विरोध करने का ऐलान कर दिया है. इसी को देखते हुए हरियाणा सरकार ने केंद्र सरकार से 150 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां मांगी थी, जिनमें से 80 कंपनियां हरियाणा सरकार को मिल गई हैं.

अमित शाह.
आदित्य बिड़वई/सतेंदर चौहान
  • जींद ,
  • 14 फरवरी 2018,
  • अपडेटेड 1:42 PM IST

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हरियाणा के जींद से कल बाइक रैली निकालकर मिशन 2019 चुनाव का बिगुल फूंकेंगे. इस रैली को कामयाब बनाने के लिए बीजेपी नेता दिन रात जुटे हुए हैं. बीजेपी ने एक लाख बाइक शामिल करने का लक्ष्य रखा है. वहीं दूसरी ओर इस रैली को लेकर राजनीतिक विवाद अब भी बना हुआ है.

पहले तो जाट समुदाय ने विरोध प्रदर्शन की धमकी दी थी. पर इसके पहले ही मुख्यमंत्री खट्टर ने जाटों से मुलाकात की और उन्हें तमाम आश्वासन देकर मना लिया.

लेकिन अब जाटों के बाद हरियाणा के विपक्षी दल आईएनएलडी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने भी अपने-अपने तरीके से अमित शाह का विरोध करने का ऐलान कर दिया है. इसी को देखते हुए हरियाणा सरकार ने केंद्र सरकार से 150 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां मांगी थी, जिनमें से 80 कंपनियां हरियाणा सरकार को मिल गई हैं.

एहतियातन 25 कंपनियों को जींद में तैनात किया जाएगा. क्योंकि आईएनएलडी के नेताओं ने ऐलान किया है कि वह 20000 काले गुब्बारे अमित शाह के विरोध में छोडेंगे तो वहीं कांग्रेस पार्टी ने बड़े पैमाने पर अमित शाह को काले झंडे दिखाने का फैसला किया है. वहीं, आम आदमी पार्टी अमित शाह को पकोड़े भेंट करेगी.

क्या है अमित शाह का तय कार्यक्रम

अमित शाह 15 फरवरी दिन के 12:00 बजे हेलीकॉप्टर से जींद के मैदान में उतरेंगे उसके बाद बाइक सवारों के साथ तकरीबन आधा किलो मीटर तक बाइक पर सवारी करेंगे. इसके बाद यात्रा को रवाना करने के बाद रैली को संबोधित करेंगे.

बता दें कि अमित शाह का पिछले 6 महीनों में हरियाणा का यह दूसरा दौरा है. इससे पहले उन्होंने रोहतक में सभा की थी. इसके बाद अब जींद में अमित शाह एक बड़ा आयोजन कर रहे हैं.

राजनीतिक जानकारों की मानें तो रोहतक और जींद दोनों ही हरियाणा के जाट लैंड का बड़ा वोट बैंक है और दोनों ही जगह पर भाजपा की हालत खस्ता है. रोहतक जहां भूपेंद्र हुड्डा का गढ़ माना जाता है तो वहीं जींद आईएनएलडी का गढ़ है. लिहाजा दोनों ही दल अमित शाह का लगातार विरोध कर रहे हैं.

Read more!

RECOMMENDED