द्वारिकाधीश मंदिर में श्रद्धालुओं की नो एंट्री, जन्माष्टमी पर ऑनलाइन दर्शन

जन्माष्टमी के मौके पर द्वारिकाधीश में हर साल 1 लाख से भी ज्यादा लोग दर्शन के लिए देश-विदेश से आते हैं. लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए द्वारिका प्रशासन ने मंदिर को 11 से 14 अगस्त तक बंद रखने का फैसला लिया है.

द्वारिका में इस बार जन्माष्टमी पर भक्तों की नो एंट्री
गोपी घांघर
  • द्वारिका,
  • 12 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 7:25 PM IST

  • जन्माष्टमी पर ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था
  • जन्माष्टमी पर हर साल 1 लाख श्रद्धालु आते हैं
  • कोरोना की वजह से मंदिर 14 अगस्त तक बंद
कोरोना महामारी के चलते भक्तों के लिए मंदिर में आकर भगवान का दर्शन करना और पूजा-पाठ में शामिल होना अब मुश्किल हो गया है, ऐसे में दर्शन की ऑनलाइन व्यवस्था की जा रही है. इतिहास में पहली बार द्वारिकाधीश मंदिर में भक्तों को जन्माष्टमी के मौके पर मंदिर में आकर दर्शन करने की इज्जात नहीं दी गई है.

हालांकि द्वारिकाधीश मंदिर ट्रस्ट के जरिए जन्माष्टमी पर्व के सीधे प्रसारण की व्यवस्था वेबसाइट (https://www.dwarkadhish.org/) पर की जा रही है. आमतौर पर जन्माष्टमी के मौके पर द्वारिकाधीश में 1 लाख से भी ज्यादा लोग दर्शन के लिए देश-विदेश से आते हैं.

लेकिन इस बार कोरोना महामारी के चलते और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए द्वारिका कलेक्टर ने मंदिर को 11 अगस्त से 14 अगस्त तक बंद रखने के फैसला किया है.

हालांकि मंदिर में उसी तरह से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनायी जा रही है जैसे हर साल मनायी जाती रही है, फर्क सिर्फ इतना है कि इस साल भगवान के दर्शन के लिए यहां मंदिर में श्रद्धालुओं को आने की इजाजत नहीं है.

इसे भी पढ़ें --- जन्माष्टमी पर आज इस विधि से करें पूजा, पूरी होगी हर मनोकामना

द्वारिका नगरी में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव काफी खास रहता है, लेकिन इस बार इसकी चमक फीकी पड़ गई है. बड़ी संख्या में लोग जन्माष्टमी पर द्वारिका नगरी आते हैं और इस साल द्वारिका नगरी में श्रद्धालुओं के नहीं आने की वजह से व्यापार में काफी नुकसान होगा. हालांकि लोगों का कहना है कि प्रशासन ने कोरोना को फैलने से रोकने के लिए यह सही फैसला लिया है.

द्वारिका में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव आपको देखना है और भगवान के दर्शन करने हैं तो आप भी ऑनलाइन दर्शन कर सकते हैं. जन्माष्टमी पर आज शाम के कार्यक्रम की सूची जारी कर दी गई है.

इसे भी पढ़ें --- अयोध्या में भव्य राम मंदिर की डिजाइन फाइनल, तीन मंजिले मंदिर में विराजेंगे रामलला

ऑनलाइन दर्शन के कार्यक्रम

उत्थापन दर्शन (शाम 5.00 बजे)

श्रीजी की संध्या आरती दर्शन (शाम 7.30 बजे)

श्रीजी की शयन आरती दर्शन (रात 8.30 बजे)

मंदिर बंद (रात 9.00 बजे से)

श्रीजी का जन्मोत्सव आरती दर्शन (रात 12.00 बजे)

श्रीजी का शयन - मंदिर बंद (रात के 2.00 बजे से सुबह 6 बजे तक)

Read more!

RECOMMENDED