दिल्ली HC में वकीलों का निशाना, कहा- पावर का बेवजह इस्तेमाल कर रही पुलिस

बार काउंसिल ने कहा कि पुलिस को यह बताना होगा कि गोली चलाने वाले पुलिस के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है. बीसीआई का दावा है कि पुलिस अपने मामले को छुपाने की कोशिश कर रही है.

तीस हजारी कोर्ट में हिंसा के बाद पुलिस के खिलाफ वकील बिरादरी (IANS)
पूनम शर्मा
  • नई दिल्ली,
  • 06 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 5:20 PM IST

  • तीस हजारी कोर्ट में हिंसा के बाद चौथे दिन भी प्रदर्शन
  • आज फिर से वकील सड़क पर उतरे, कल पुलिस थे
  • BCI-पावर का गलत इस्तेमाल कर रही दिल्ली पुलिस

राजधानी दिल्ली की सड़कों पर पिछले चार दिनों से पुलिस और वकीलों के बीच जारी संघर्ष खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है. दोनों के बीच जारी जंग में मंगलवार को पुलिसवालों ने जोरदार प्रदर्शन किया तो आज (बुधवार) को फिर वकील सड़क पर हैं. इस बीच तीस हजारी हिंसा मामले में दिल्ली हाई कोर्ट में वकील पक्ष पुलिस पर आक्रामक है और उसने पावर के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया है.

कोर्ट में सुनवाई के दौरान बार काउंसिल ऑफ इंडिया (BCI) ने कहा कि 2 शुरुआती एफआईआर में जांच होने दीजिए. पुलिस का कहना है कि यहां केवल क्लेरिफिकेशन के लिए एप्लीकेशन दायर की गई है, लेकिन इसका बार काउंसिल ने विरोध किया.

पुलिस मामला दर्ज नहीं कर रहीः BCI

दिल्ली हाई कोर्ट में बार काउंसिल की तरफ से कहा गया कि अगर हम इस समय पुलिस से मामला दर्ज करने के लिए कहते हैं वो दर्ज नहीं कर रही है.

बार काउंसिल ने कहा कि पुलिस को यह बताना होगा कि गोली चलाने वाले पुलिस के खिलाफ क्या कार्रवाई की गई है. बीसीआई का दावा है कि पुलिस अपने मामले की छुपाने की कोशिश कर रही है.

बार काउंसिल ने कोर्ट से कहा कि साकेत की घटना में दिल्ली पुलिस ने सेक्शन 392 के तहत मामला दर्ज किया है. पुलिस ने डकैती का मामला दर्ज किया है. पुलिस पावर का गलत इस्तेमाल कर रही है.

वकीलों की तरफ से पेश वकील राकेश खन्ना ने दिल्ली हाई कोर्ट से कहा कि मीडिया को भी रिपोर्टिंग पर बैन लगाने का आदेश देना चाहिए. उन्होंने कहा कि मीडिया और पुलिस मामले को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

कोर्ट में भारी भीड़, एक-दूसरे पर गिर रहे वकील

इस बीच हाई कोर्ट में इतनी भीड़ है कि कोर्ट स्टाफ को बार-बार वकीलों की भीड़ को कोर्टरूम में शांत कराना पड़ रहा था. दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस का कोर्ट काफी बड़ा है, लेकिन 500 से 700 वकील फिलहाल कोर्टरूम के अंदर थी. भीड़ इतनी है कि लोग एक-दूसरे पर गिर रहे थे.

सुनवाई के दौरान पूरे कोर्ट में अफरातफरी का माहौल रहा. भीड़ और शोरगुल के बीच चीफ जस्टिस उठकर अंदर चले गए थे. अदालत में गृह मंत्रालय के वकील ने कहा है कि एप्लीकेशन दायर करने का उद्देश्य राजधानी में शांति बनाए रखना है.

Read more!

RECOMMENDED