आर्थिक संकट से जूझ रही नॉर्थ एमसीडी ने सभी पार्षदों को बांटे लैपटॉप

एमसीडी की आर्थिक तंगी का हाल यह है कि निगम के अस्पतालों में पर्याप्त दवा खरीदने के पैसे नहीं है. यह भी कहा गया है कि निगम के स्कूलों में बच्चों के लिए बेंच और टेबल खरीदने का पैसा नहीं बचा है.

पार्षदों को बांटे गए लैपटॉप
अंकित यादव
  • नई दिल्ली,
  • 19 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 11:24 PM IST

  • अर्थिक तंगी से जूझ रही है एमसीडी
  • मेयर ने पार्षदों को बांटे लैपटॉप
  • अस्पतलों में नहीं हैं पर्याप्त दवाइयां
  • फाइलों को डिजिटलाइज्ड करने पर जोर
दिल्ली में नगर निगमों के पास पैसे की किल्लत की खबरें जगजाहिर हैं. आए दिन खबरें सामने आती हैं कि एमसीडी आर्थिक तंगी से जूझ रही है. एक तरफ यह दावा किया जा रहा है कि उत्तरी दिल्ली नगर निगम आर्थिक संकट का सामना कर रहा है, वहीं दूसरी ओर उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाले सभी पार्षदों को लैपटॉप वितरित किया है.

एमसीडी की आर्थिक तंगी का हाल यह है कि निगम के अस्पतालों में पर्याप्त दवा खरीदने के पैसे नहीं है. यह भी कहा गया है कि निगम के स्कूलों में बच्चों के लिए बेंच और टेबल खरीदने का पैसा नहीं बचा है.

गुरुवार को नॉर्थ एमसीडी के मेयर अवतार सिंह ने अपने पार्षदों को लैपटॉप वितरित किया है. अवतार सिंह ने कहा कि लैपटॉप के जरिए अब पार्षदों के पास सूचना जल्द पहुंच जाएगी. निगम चाहती है कि पार्षदों से जुड़े काम अब ऑनलाइन ही पूरे कर लिए जाएं. मेयर के मुताबिक इससे नगर निगम के कामों में तेजी आएगी.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम की स्थाई समिति के अध्यक्ष जयप्रकाश कहते हैं कि डिजिटल इंडिया के तहत हम चाहते हैं कि हमारे पार्षद भी डिजिटल हो जाएं. दरअसल नगर निगम की योजना है कि पारदर्शिता बढ़ाने के लिए आने वाले कुछ समय में फाइलों को पूरी तरह से डिजिटलाइज कर दिया जाए.

एमसीडी की आर्थिक तंगी हाल ही में बहुत चर्चित हुई थी. निगम के पास कर्मचारियों की सैलरी देने के लिए फंड तक उपलब्ध नहीं थे. हाल ही में निगम के ज़्यादातर विभागों में काम करने वाले कर्मचारियों की तीन महीने से लेकर छह महीने तक की सैलरी नहीं जारी की गई थी. ऐसे में लैपटॉप बांटने का यह फैसला चौंकाने वाला है.

Read more!

RECOMMENDED