372 बच्चों ने जेईई (मेन्स) क्वालिफाई किया, केजरीवाल ने दी शाबाशी

त्यागराज स्टेडियम में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में केजरीवाल ने कहा, हमें आप सब पर गर्व है. आप सबको बधाई. आप सबको आशीर्वाद. सरकारी स्कूल के बच्चों में आत्मविश्वास पैदा हुआ है कि हम किसी से कम नहीं हैं. आपके पैरेंट्स, टीचर्स और शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों- कर्मचारियों को बधाई, जिनकी मेहनत की बदौलत ये संभव हुआ है.

symbolic image
रोशनी ठोकने
  • नई दिल्ली,
  • 23 मई 2017,
  • अपडेटेड 11:04 PM IST

दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले 372 बच्चों ने जेईई (मेन्स) क्वालिफाई किया है. बच्चों के जेईई क्वालिफाई करने की खबर पर खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बच्चों को बधाई दी है.

त्यागराज स्टेडियम में मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में केजरीवाल ने कहा, हमें आप सब पर गर्व है. आप सबको बधाई. आप सबको आशीर्वाद. सरकारी स्कूल के बच्चों में आत्मविश्वास पैदा हुआ है कि हम किसी से कम नहीं हैं. आपके पैरेंट्स, टीचर्स और शिक्षा विभाग के सभी अधिकारियों- कर्मचारियों को बधाई, जिनकी मेहनत की बदौलत ये संभव हुआ है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता अपने बच्चों को सरकारी स्कूलों में नहीं पढ़ाना चाहती थी. लेकिन पिछले दो साल के भीतर दिल्ली के सरकारी स्कूलों में जो शिक्षा क्रांति हुई है, जो मेहनत हुई है, आप जैसे बच्चे उसी का आउटपुट हैं. आपने जेईई (मेन्स) क्वालिफाई किया है और आप आने वाले बच्चों के लिए मिसाल बन रहे हैं.

केजरीवाल ने बच्चों से की अपील अरविंद केजरीवाल ने इन बच्चों से एक अपील करते हुए कहा, जब इंजीनियर बनकर निकलो, तब इस देश को मत भूल जाना. अपनी कमाई का थोड़ा सा पैसा और अपनी जिंदगी का थोड़ा सा हिस्सा, इस देश के नाम लगा देना. जैसे आप लोगों को इस देश ने पढ़ाया, वैसे आप लोगों की कमाई से दूसरे बच्चे भी पढ़ें और ये देश आगे बढ़ता रहे.

उन्होंने कहा, आपके एजुकेशन में गरीब से गरीब आदमी का पैसा लगा हुआ है. आप सबने सरकारी स्कूलों में पढ़ाई की है. इन स्कूलों को चलाने के लिए गरीब से गरीब आदमी टैक्स देता है. अब आप सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेजे में जाएंगे, वहां भी गरीब से गरीब आदमी के टैक्स से दिये हुए पैसों से आपकी पढ़ाई होगी. इसलिए इंजीनियर बनने के बाद इस देश को मत भूल जाना.

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने इन बच्चों को संबोधित करते हुए कहा, आप सब लोग हमारे ब्रांड एंबेसडर हैं. आप जहां भी जाओगे दिल्ली के सरकारी स्कूलों को झंडे गाड़ रहे होगे. उन्होंने ये भी कहा कि आप जिन स्कूलों से पढ़कर निकले हैं, वहां और भी होनहार बच्चे हैं. दिल्ली के सभी सरकारी स्कूलों में होनहार बच्चे हैं. उनके करियर को संवारने के लिए, उनके करियर को पंख लगाने के लिए आगे आएं. आप हमें इनपुट दें कि 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं के बच्चों के आगे के करियर को संवारने के लिए सरकार को क्या-क्या करना चाहिए.

दिल्ली से बाहर पढ़ने वाले बच्चों को भी मिलेगा एजुकेशन गारंटी लोन स्कीम का फायदा दिल्ली के सरकारी स्कूलों में पढ़कर जेईई (मेन्स) क्वालिफाई करने वाले 372 बच्चों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार की एजुकेशन गारंटी लोन स्कीम का फायदा दिल्ली से बाहर पढ़ने वाले बच्चों को भी मिलना चाहिए. विभाग इसके लिए जरूरी इंतजाम करे.

उन्होंने कहा, अगर कोई बच्चा अपनी फीस नहीं दे सकता, इस वजह से उसको हायर एजुकेशन न मिले, ये गलत बात है. लेकिन जब पैरेंट्स किसी बैंक के पास एजुकेशन लोन लेने जाते हैं, तो बैंक कहते हैं कि कुछ गिरवी रखो. अब गिरवी रखने के लिए कुछ होता तो वो गरीब क्यों होता. इसीलिए सरकार में आने के बाद हमने एक स्कीम शुरू की थी कि आपको एजुकेशन लोन के लिए कुछ भी गिरवी रखने की जरूरत नहीं है. सरकारी आपकी गारंटी देगी. आपको हायर एजुकेशन के लिए 10 लाख रुपये तक का लोन मिल जाएगा. अब तक ये केवल दिल्ली के कॉलेजेस के लिए था. लेकिन अब दिल्ली से पढ़ाई करने वाले बच्चों को दुनिया के किसी भी कॉलेज में एडमिशन मिले तो उसे इस स्कीम का फायदा मिलना चाहिए.

मुख्यमंत्री ने ये भी कहा कि जिस तरह स्कूल इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारने के लिए, स्कूलों में नये कमरे बनवाने के लिए युद्ध स्तर पर काम हुआ है, उसी तरह टीचर्स की कमी को पूरा करने के लिए हमें युद्ध स्तर पर काम करना है.

Read more!

RECOMMENDED