मां ने किया खुलासा- पॉलिटिकल करियर न बन पाने की वजह से डिप्रेशन में थे रोहित शेखर

पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की मौत पर उनकी मां उज्ज्वला ने खुलासा किया. आजतक से खास बातचीत में उज्ज्वला ने कहा कि मेरा बेटा अवसाद से घिरा हुआ था.

मां उज्ज्वला के साथ बेटा रोहित शेखर (फाइल फोटो)
चिराग गोठी
  • नई दिल्ली,
  • 17 अप्रैल 2019,
  • अपडेटेड 5:41 PM IST

यूपी-उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की मौत पर उनकी मां उज्ज्वला ने खुलासा किया है. आजतक से खास बातचीत में उज्ज्वला ने कहा कि मेरा बेटा अवसाद से घिरा हुआ था. मेरे बेटे ने अपने पिता का बहुत ध्यान रखा और जब उनकी मृत्यु हुई तो अंतिम यात्रा अगर सफल हुई तो वह मेरे बेटे की वजह से हुई. रोहित का पॉलिटिकल करियर नहीं बन पाया, जिसकी वजह से वह काफी डिप्रेशन में था.

बता दें, रोहित शेखर तिवारी का मंगलवार को निधन हो गया था. रोहित अपनी पत्नी और मां के साथ  साउथ दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में रहते थे. मंगलवार को अचानक उनके नाक से खून बहने लगा. उन्हें साकेत मैक्स अस्पताल ले जाया गया था, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था. इसके बाद आज यानी बुधवार को एम्स में रोहित के शव का पोस्टमॉर्टम किया गया.

मां उज्ज्वला ने कहा था, मेरे बेटे की मौत स्वभाविक

एम्स पहुंचीं रोहित की मां उज्ज्वला ने कहा कि रोहित का पॉलिटिकल कैरियर नहीं बन पाया, जिसकी वजह से वह काफी डिप्रेशन में था. मेरे बेटे ने अपने पिता को उन तत्वों से भी बचाया जो उनके लिए हानिकारक थे. इससे पहले मंगलवार को उज्ज्वला ने कहा था कि मेरे बेटे की मौत स्वभाविक है. इसके पीछे कोई साजिश नहीं है. मैं कल आपको बताऊंगी कि मेरे बेटे का डिप्रेशन में क्यों था. मैं उनका नाम भी बताऊंगी, जिसके कारण वह डिप्रेशन में था.

हालांकि, आज उज्ज्वला ने बेटे के डिप्रेशन की वजह बताई, लेकिन किसी का नाम नहीं लिया. उन्होंने कहा कि सही समय आने पर मैं नाम बताऊंगी. रोहित बहुत सुलझे और अच्छे इंसान थे. उन्होंने अपने पिता की बहुत सेवा की, लेकिन इतनी छोटी उम्र में वह चले गए. इस पर हमें भी विश्वास नहीं हो रहा है.

पांच डॉक्टरों की टीम, डेढ़ घंटे तक पोस्टमॉर्टम

पांच डॉक्टरों की टीम के पैनल ने रोहित के शव का पोस्टमॉर्टम किया, जो लगभग डेढ़ घंटे तक चला. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट गुरुवार को आने की संभावना है. शुरुआत में रोहित की मौत हार्ट अटैक से बताई गई थी, लेकिन मौत की पूरी सच्चाई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आने के बाद साफ हो पाएगी. रोहित के शव को एनडी तिवारी के सरकारी आवास तिलक लेन पर रखा गया. शाम को उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

कौन थे रोहित शेखर

40 वर्षीय रोहित शेखर, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे हैं. बेटे का हक रोहित ने 6 साल लंबी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद हासिल किया था. रोहित ने दावा किया था कि नारायण दत्त तिवारी उसके जैविक पिता हैं. डीएनए टेस्ट के बाद साफ हुआ था कि रोहित के जैविक पिता एनडी तिवारी ही हैं. रोहित इस समय डिफेंस कॉलोनी में अपनी पत्नी और मां उज्ज्वला के साथ रहते थे. पिछले साल ही उन्होंने अपूर्वा से शादी की थी.

Read more!

RECOMMENDED