शाहीन बाग: प्रदर्शनकारी पीछे हटने को तैयार नहीं, 29 जनवरी को बुलाया भारत बंद

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने अपनी लड़ाई और तेज करने का संकल्प लिया है. उनकी मांग है कि सरकार इस कानून को वापस ले अन्यथा पूरे देश में विरोध प्रदर्शन जारी रखा जाएगा. पिछले एक महीने से प्रदर्शनकारी शाहीन बाग में अपनी मांगों को लेकर डटे हैं.      

सीएए के खिलाफ प्रदर्शन का दायरा बढ़ाने की तैयारी में प्रदर्शनकारी (PTI)
तनुश्री पांडे
  • नई दिल्ली,
  • 21 जनवरी 2020,
  • अपडेटेड 9:55 PM IST

  • 29 जनवरी को सड़क जाम करेंगे प्रदर्शनकारी
  • सरकार से नागरिकता कानून वापस लेने की मांग

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 29 जनवरी को भारत बंद बुलाया है. दिल्ली के शाहीन बाग में एक महीने से भी ज्यादा समय से CAA के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है. प्रदर्शनकारियों ने अब भारत बंद का आह्वान किया है. उन्होंने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत उन्हें यहां से नहीं हटा सकती.

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने एक सुर में फैसला किया है कि 29 जनवरी को सड़कें जाम की जाएंगी. उनका कहना है कि सरकार अपने प्रतिनिधि भेजेगी, उसके बाद भी विरोध यूं ही जारी रहेगा. हालांकि इसके बीच-बचाव में दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मंगलवार को शाहीन बाग के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और प्रदर्शन खत्म करने की अपील की. प्रतिनिधिमंडल ने उपराज्यपाल को एक ज्ञापन देकर सीएए वापस लेने की मांग की.

उपराज्यपाल ने प्रतिनिधिमंडल से लोगों को हो रही दिक्कतों के बारे में अवगत कराया. उन्होंने सड़क बंद होने के कारण स्कूली बच्चों, रोगियों और आम जन को हो रही परेशानियों का हवाला दिया.

शाहीन बाग में 1 महीने से ज्यादा दिनों से विरोध प्रदर्शन चल रहा है. इसमें हजारों लोग शामिल हो रहे हैं जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं. कुछ बुजुर्ग महिलाएं भी इसमें शरीक हो रही हैं. इन्हीं में से एक बुजुर्ग महिला ने मंगलवार को सरकार को खुली चुनौती दी. उसने कहा कि अगर सरकार पीछे नहीं हटेगी तो हम भी एक इंच पीछे नहीं हटेंगे. बेहद तल्ख अंदाज में बुजुर्ग महिला ने कहा कि हम मरने से नहीं डरते. इन महिलाओं की मांग है कि सरकार सीएए वापस ले नहीं तो उनका प्रदर्शन आगे भी जारी रहेगा.

Read more!

RECOMMENDED