छत्तीसगढ़: Parle-G बिस्किट की फैक्ट्री से छुड़ाए गए 26 बाल मजदूर

रायपुर में पार्ले-जी (Parle-G) बिस्किट की एक फैक्ट्री में काम कर रहे बाल मजदूरों को बचाया गया है. जिला कार्यबल (डीटीएफ) ने शनिवार को बिस्किट फैक्ट्री में काम कर रहे 26 बच्चों को बचाया है.

बाल श्रम (प्रतीकात्मक तस्वीर-रॉयटर्स)
aajtak.in
  • रायपुर,
  • 16 जून 2019,
  • अपडेटेड 9:26 AM IST

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में बिस्किट की लोकप्रिय ब्रांड पार्ले-जी (Parle-G) की एक फैक्ट्री में काम कर रहे बाल मजदूरों को बचाया गया है. जिला कार्यबल (डीटीएफ) ने शनिवार को बिस्किट फैक्ट्री में काम कर रहे 26 बच्चों को छुड़ाया गया है.

जिला बाल संरक्षण अधिकारी नवनीत स्वर्णकार ने कहा कि जिला कलेक्टर के निर्देश पर एक अभियान चलाया गया जिसमें पार्ले-जी बिस्किट फैक्ट्री से 26 उन बच्चों को रेस्क्यू किया गया जो वहां बाल मजदूरी कर रहे थे. इनमें ज्यादातर बच्चों की उम्र 12 से 16 साल के बीच है और वह झारखंड, ओडिशा और बिहार से ताल्लुक रखते हैं.

दरअसल, बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) को रायपुर में बड़ी संख्या में बच्चों के काम करने की सूचना मिली थी जिसके बाद यह अभियान चलाया गया. बच्चों ने बयान दिया है कि वे 5 से 7 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन में सुबह 8 से रात 8 बजे तक यानी 12 घंटे काम करते थे.

बीबीए के सीईओ समीर माथुर ने कहा, पार्ले-जी देश का एक अच्छा और बड़ा ब्रांड है, और लाखों बच्चों के बीच इसकी पहचान है, उसे इस रूप में देखना बहुत निराशाजनक है. फैक्ट्री से रेस्क्यू किए गए बच्चों को राज्य सरकार द्वारा संचालित बाल गृह में भेज दिया गया.  वहीं महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों द्वारा दर्ज शिकायत के आधार पर फैक्ट्री मालिक के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. किशोर न्याय अधिनियम और जेजे एक्ट की धारा 79 के तहत  एफआईआर (प्राथमिकी) दर्ज की गई.

बता दें कि भारत में बाल मजदूरों की सबसे ज्यादा संख्या 5 बड़े राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में है, जो कुल बाल मजदूरी का करीब 55 फीसदी है. हाल ही में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा बाल मजदूर उत्तर प्रदेश और बिहार से हैं. उत्तर प्रदेश में 21.5 फीसदी यानी 21.80 लाख और बिहार में 10.7 फीसदी यानी 10.9 लाख बाल मजदूर हैं. राजस्थान में 8.5 लाख बाल मजदूर हैं.

गौरतलब है कि 12 जून को वर्ल्ड डे अगेंस्ट चाइल्ड लेबर (बाल मजदूरी के खिलाफ दिवस) मनाया जाता है. इसे बाल मजदूरी के उन्मूलन के लिए 2002 से शुरू किया गया. 

Read more!

RECOMMENDED