बाढ़ के बाद पटना पहुंचे केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, अस्पताल में मरीजों का जाना हालचाल

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को बाढ़ प्रभावति अपने संसदीय क्षेत्र का दौरा किया और लोगों का हालचाल जाना. वो पीएमसीएच गए और डेंगू समेत अन्य बीमारियों की चपेट में आए मरीजों से बातचीत की.

पीएमसीएच में मरीज का हालचाल लेते रविशंकर प्रसाद (Courtesy- ANI)
रोहित कुमार सिंह
  • पटना,
  • 09 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 6:53 PM IST

  • पटना के राजेंद्र नगर और कंकड़बाग में 7 फीट तक भर गया था बाढ़ का पानी
  • रविशंकर बोले- बिहार सरकार की हर तरह से मदद कर रही है केंद्र सरकार
केंद्रीय कानून मंत्री और पटना साहिब से बीजेपी सांसद रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को अपने संसदीय क्षेत्र का दौरा किया. साथ ही बाढ़ के बाद शहर में स्वास्थ्य सेवाओं और सफाई कार्य का निरीक्षण किया. रविशंकर प्रसाद सबसे पहले पीएमसीएच गए और उन मरीजों से मुलाकात की, जो बाढ़ के बाद डेंगू समेत अन्य बीमारियों की चपेट में आ गए हैं. रविशंकर प्रसाद ने मरीजों से उनके स्वास्थ्य के बारे में पूछा और अस्पताल प्रशासन को उचित मेडिकल सुविधा मुहैया कराने का निर्देश दिया.

पटना साहिब से सांसद रविशंकर प्रसाद ने पीएमसीएच के बाद राजेंद्र नगर और कंकड़बाग इलाके का भी दौरा किया, जो बाढ़ में सबसे ज्यादा प्रभावित इलाके थे. आपको बता दें कि राजेंद्र नगर और कंकड़बाग इलाके में भारी बारिश की वजह से जो बाढ़ की स्थिति पैदा हुई थी, उसमें पूरे इलाके में तकरीबन 6 से 7 फीट तक पानी भर गया था.

इन इलाकों में मदद पहुंचाने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को कई नावें चलानी पड़ी थीं. कई लोगों को उनके ही घर से सुरक्षित निकालने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ी. इन इलाकों में लोगों के घर के ग्राउंड फ्लोर पूरी तरह से पानी में डूब गए थे.

इसके बाद बिहार सरकार ने कोल इंडिया की मदद से राजेंद्र नगर और कंकड़बाग इलाके में बड़े-बड़े पंप लगाए, जिसके बाद इलाके की जल निकासी हो पाई थी. जल निकासी के बाद रविशंकर प्रसाद ने आज इन इलाकों का दौरा किया और चलाए जा रहे सफाई कार्य का निरीक्षण किया. कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि मैं बुधवार को पीएमसीएच आया और लोगों से मुलाकात की. इस आपदा की घड़ी में केंद्र सरकार राज्य सरकार की हर तरह से मदद कर रही है और आगे भी जो जरूरत होगी, वो की जाएगी. रविशंकर प्रसाद ने कहा कि उन्होंने पटना में आए बाढ़ की वजह से इस बार दशहरा न मनाने का फैसला किया था और यह उनका निजी फैसला था.

Read more!

RECOMMENDED