बिहार: बाढ़ में डूबा पुलिस थाना, हथियारों के साथ सुरक्षित स्थान तलाश रहे पुलिसकर्मी

थाने के अंदर पानी भरा होने पर भी ड्यूटी निभाने की मजबूरी की वजह से कुछ पुलिस वाले अपने हथियार के साथ फिर बाढ़ के पानी से होते हुए वापस थाने में जाते हुए देखे गए.

अपने हथियार के साथ पुलिस (फोटो-रोहित कुमार सिंह)
रोहित कुमार सिंह
  • मधुबनी,
  • 15 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 8:17 PM IST

बिहार के 12 जिले इस वक्त बाढ़ की मार झेल रहे हैं जिसमें सबसे ज्यादा प्रभावित मधुबनी, सीतामढ़ी, शिवहर, पूर्वी चंपारण और दरभंगा है. मधुबनी में कमला बलान नदी का रौद्र रूप में बरकरार है. जिसकी वजह से झंझारपुर अनुमंडल सबसे ज्यादा प्रभावित है. झंझारपुर में बाढ़ का पानी घुसने से भी लोग दहशत में हैं. हालात ये हैं कि रविवार की शाम भैरव स्थान पुलिस थाना पूरी तरीके से जलमग्न हो गया.

दरअसल, रविवार को झंझारपुर में कमला बलान नदी पर बना बांध टूट गया. बांध के टूटने से बाढ़ का पानी कई पंचायतों और गांव में घुस गया. साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग-57 पर बने भैरव स्थान के पास के पुलिस थाने में भी बाढ़ का पानी घुस गया. जिसके बाद पुलिस वालों को अपनी जान बचाकर वहां से निकलना पड़ा.

थाने के अंदर पानी भरा होने पर भी ड्यूटी निभा रहे पुलिसकर्मी

सोमवार को आज तक की टीम जब भैरव स्थान थाने पर पहुंची तो वहां पर केवल दो गार्ड मौजूद थे जो कि थाने की निगरानी कर रहे थे. थाने के चारों तरफ लबालब बाढ़ का पानी फैला हुआ था. थाने में कार्यरत पुलिस वालों ने बताया कि रविवार की शाम जैसे ही थाने के अंदर बाढ़ के पानी का जलस्तर बढ़ने लगा पुलिस ने अपने हथियार लेकर सुरक्षित स्थान पर निकलने में ही अपनी भलाई समझी.

सोमवार को भी थाने के अंदर पानी भरा हुआ था मगर ड्यूटी निभाने की मजबूरी की वजह से कुछ पुलिस वाले अपने हथियार के साथ फिर बाढ़ के पानी से दो-चार होते हुए वापस थाने में जाते हुए देखे गए. पुलिस वालों ने बताया कि उन लोगों को किसी भी हालत में ड्यूटी करनी है.

अपने हथियार के साथ पुलिस (फोटो-रोहित कुमार सिंह)

प्रशासन ने नहीं ली सुध

आजतक की टीम झंझारपुर के खरर्क और लोहना गांव पहुंची तो देखा कि पूरा गांव पूरी तरीके से पानी में डूब चुका है. लोग अपनी जान बचाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग-57 पर आ गए हैं. स्थानीय लोगों ने शिकायत की कि इलाके में बाढ़ की आने के बावजूद भी अब तक स्थानीय प्रशासन या सरकार का कोई भी नुमाइंदा उनकी मदद के लिए नहीं पहुंचा है. बाढ़ पीड़ितों ने कहा कि सरकार की तरफ से उनके लिए नाव की व्यवस्था भी नहीं की गई है. ताकि वह अपने घर से जरूरी सामान लेकर सुरक्षित स्थान पर जा सके. बहरहाल, झंझारपुर अनुमंडल के कई गांव इस वक्त बाढ़ की भेंट चढ़ गए हैं और लोगों को अपनी जान बचाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 57 का सहारा लेना पड़ रहा है.

Read more!

RECOMMENDED