फैक्ट चेक: ओबामा ने कभी नहीं कहा कि मोदी के पीएम रहते आतंकी हमले होना नामुमकिन

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के हवाले से यह टिप्पणी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. यह लेख ओरिएंटल टाइम्स इंडिया में 27 दिसंबर को प्रकाशित हुआ था. 

पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (फाइल फोटो-पीटीआई)
खुशदीप सहगल
  • नई दिल्ली,
  • 01 जनवरी 2019,
  • अपडेटेड 5:37 PM IST

“जब तक नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं, भारत में आतंकी हमले नामुकिन हैं: बराक ओबामा”  एक न्यूज़ वेबसाइट पर एक लेख में इसे अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के हवाले से दिया गया बयान बताया गया जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. ये लेख ओरिएंटल टाइम्स इंडिया में 27 दिसंबर को प्रकाशित हुआ. लेख में सूत्रों के हवाले से बताया गया कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने हालिया छापों में ऐसे लोगों को गिरफ्तार किया जो 29 नवंबर को अयोध्या में राम जन्मभूमि पर हमले का मंसूबा बनाए हुए थे. लेख में ये भी कहा गया कि इसी ख़बर के हवाले से अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने बयान दिया कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री रहते हुए भारत में आतंकी हमले नामुमकिन हैं.  

26 दिसंबर को NIA ने दिल्ली और उत्तर प्रदेश में आतंकी संगठन IS के टेरर मॉड्यूल का पर्दाफाश किया. NIA ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया और 10 लोगों को हिरासत में लिया.  

इंडिया टुडे फैक्ट चेक टीम ने पड़ताल में पाया कि ओबामा ने ऐसा कभी नहीं कहा जिसका कि दावा लेख में किया गया. और तो और NIA की प्रेस रिलीज़ में भी हालिया छापों को लेकर कहीं नहीं उल्लेख किया गया कि गिरफ्तार किए गए लोग रामजन्मभूमि पर हमले की फिराक़ में थे. ज्यादातर न्यूज़ आर्टिकल्स में यही कहा गया कि गिरफ्तार लोग दिल्ली में RSS दफ्तर, पुलिस मुख्यालय और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) को निशाना बनाने की योजना बना रहे थे.

ओरिएन्टल टाइम्स इंडिया की फेसबुक पोस्ट को इस स्टोरी के लिखे जाने तक 5,800 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

 

इसी तरह के संदेश को अन्य फेसबुक पेजों पर भी 1,000 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका है.  

हमने कई न्यूज़ पोर्टल्स को खंगाला जिनमें से कुछ अंतरराष्ट्रीय भी थे. लेकिन हमें कहीं भी ऐसा बयान देखने को नहीं मिला जिसमे ओबामा NIA के हालिया छापों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी या आतंकवाद को लेकर कुछ कह रहे हों.   

जब हमने ओरिएन्टल टाइम्स इंडिया के संपादक अभिषेक वर्मा से बात की तो उन्होंने कहा कि लेख गलती से वेबसाइट पर छप गया था जिसे अब सभी प्लेटफॉर्म्स से हटा दिया गया है.

Read more!

RECOMMENDED