दबाव में है चीन, डिप्लोमैट दे रहे हैं मूर्खों जैसे बयान: रक्षा विशेषज्ञ

ई-एजेंडा कार्यक्रम में पूर्व उप सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल रिटायर्ड गुरमीत सिंह ने कहा कि चीन के साथ कमांडर स्तर की जो अब बात हो रही है, वो सीमा पर तनातनी को कम करने की दिशा में सार्थक कदम है.

कोरोना की वजह से चीन घिरा (Photo: File)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 06 जून 2020,
  • अपडेटेड 4:35 PM IST

  • कोरोना की वजह से चीन के रवैये में बदलाव
  • ध्यान भटकाने के लिए सीमा पर चीन की हरकत
  • भारतीय सेना हर तरह से निपटने के लिए तैयार

सीमा पर तनातनी के बीच आजतक के खास कार्यक्रम ई-एजेंडा सुरक्षा सभा में देश के तीन बड़े रक्षा विशेषज्ञ शामिल हुए. तीनों रिटायर्ड जनरल ने कहा कि भारत की सीमाएं सुरक्षित हैं, और चाहें पाकिस्तान हो या चीन भारतीय सेना हमेशा मुकाबले के लिए तैयार रहती है.

ई-एजेंडा कार्यक्रम में पूर्व उप सेना प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) गुरमीत सिंह ने कहा कि चीन के साथ कमांडर स्तर की जो अब बात हो रही है, वो सीमा पर तनातनी को कम करने की दिशा में सार्थक कदम है. उन्होंने कहा कि सीमा पर जो कुछ हो रहा है कि वो चीन की बौखलाहट है. उन्होंने कहा कि भारत और चीन दोनों सुलझे हुए देश हैं.

'भारतीय सेना हर मुकाबले के लिए तैयार'

जनरल गुरमीत सिंह ने कहा कि भारतीय सेना संविधान के मुताबिक कार्य करती है. आज की तारीख में इंडियन आर्मी की ताकत बहुत बड़ी है. 1962 के बाद भारत की ताकत बहुत बढ़ी है. उसके बाद भारतीय सेना ने कई बार अपने पराक्रम का शौर्य दिखाया है. जनरल गुरमीत सिंह की मानें तो कोरोना की वजह से चीन के रवैये में बदलाव आया है, चीनी राजनयिक जिस तरह के बयान दे रहे हैं, वो चीन की छवि से बिल्कुल उलट है. अमेरिका, यूके, यूएस और जर्मनी में चीनी राजनयिकों ने अनपढ़ जैसे बयान दिए.

रक्षा विशेषज्ञ ने कहा कि पाकिस्तान को तो पूरी दुनिया जानती है, कभी-कभी पाकिस्तान की हरकतें देख कर लगता है कि किसी गली वाले से लड़ाई हो रही है. हालांकि गुरमीत सिंह ने कहा कि आज की तारीख में अब पाकिस्तान में वो ताकत नहीं रही है कि वो भारत की तरफ आंखें उठाकर देखे.

इसे पढ़ें: भारत-चीन के मिलिट्री कमांडरों के बीच मीटिंग जारी, LAC पर टेंशन दूर करने की कोशिश

सीमा पर चीन की बौखलाहट: विनोद भाटिया

लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) विनोद भाटिया ने कहा कि भारत सीमा पर सैद्धांतिक रूप से मजबूत है. भारत का साफ कहना है कि 'ना हम पीछे हटेंगे और ना बात को आगे बढ़ाएंगे'. सीमा मसले को लेकर भारत और चीन के बीच 7 बार मीटिंग हो चुकी हैं. दोनों देशों के बीच जो समझौते हुए हैं. उसपर अमल करना ही दोनों के लिए फायदेमंद रहेगा. खासकर चीन के लिए जरूरी है क्योंकि कोरोना वायरस की वजह से चीन की वैश्विक छवि खराब हुई है. भारत ने दो टूक कह दिया है कि पहले पीछे जाएं, तभी बातचीत संभव है.

सीमा पर तेजी से तरक्की की जरूरत: सतीश दुआ

सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम देने में लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) सतीश दुआ की बड़ी भूमिका रही थी. उन्होंने ने कहा कि ये 1962 नहीं है, भारतीय सेना के पास इतना अनुभव है कि वो किसी भी हालात से निपटने के लिए तैयार है. चीन और पाकिस्तान के साथ भारत का सीमा अलग-अलग तरह का मामला है. पाकिस्तान की तरफ से आतंकवाद को रोकना है, वहीं सीमा पर पिछले 5 दशक से चीन-भारत के बीच फायरिंग नहीं हुई है. सीमा पर इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा देने की जरूरत है. चीन को उसी की भाषा में जवाब देने के लिए सीमा पर तरक्की जरूरी है.

इसे भी पढ़ें: बाबा रामदेव बोले- चीन को मात देने के लिए उसके सामान का बहिष्कार जरूरी

तीनों रक्षा विशेषज्ञों ने एक सुर में कहा कि भारतीय सेना सीमा पर चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है. लेकिन इसके लिए पॉलिटिकल स्तर पर फैसले की जरूरत है. हालांकि जंग अंतिम विकल्प के तौर पर होना चाहिए. इसलिए पूरी उम्मीद है कि बातचीत के जरिये ही मसले का हल निकल आएगा.

Read more!

RECOMMENDED