गुरु दत्त के साथ अच्छे नहीं थे गीता दत्त के रिश्ते, करियर पर भी पड़ा बुरा असर

सिंगर गीता दत्त का फिल्मी करियर जितना हिट रहा उतना ही उतार चढ़ाव भरा रहा उनका निजि जीवन. उनकी पुण्यतिथि पर बता रहे हैं उनकी निजी जीवन की कुछ ऐसी बातें जिन्होंने उनके करियर पर भी बुरा प्रभाव डाला.

गीता दत्त
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 20 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 7:36 AM IST

गीता दत्त की गायकी एक अलग अंदाज और मिजाज की गायकी मानी जाती है. गीता ने जिन गानों को गाया वह गाने सिर्फ उन्हीं के हो कर रह गए. किसी दूसरे सिंगर द्वारा उस इमोशन के साथ उन गानों को गा पाना नामुमकिन था. गीता दत्त का जन्म 23 नवंबर 1930 को फरीदपुर (बांग्लादेश) में हुआ था. वह हिंदी सिनेमा की मशहूर प्लेकबैक सिंगर्स में से एक रही हैं. जितना सफल उनका फिल्मी करियर था उतना ही विफल उनका वैवाहिक जीवन रहा. उन्होंने मशहूर एक्टर-डायरेक्टर गुरु दत्त से शादी की थी. मगर दोनों का रिश्ता ताउम्र उतार चढ़ावों से भरा रहा. गीता दत्त की पुण्यतिथि पर बता रहे हैं उनके जीवन से जुड़े कुछ किस्से.

1947-1949 के बीच उन्होंने बॉलीवुड में बतौर प्लेबैक सिंगर राज किया था. लेकिन निजी रिश्तों में तनाव के चलते धीरे-धीरे उनका सिंगिंग करियर पीछे छूटता चला गया. जब गुरू दत्त और उनके प्यार के आशियाने में खटास आनी शुरू हो गई तब इसका असर उनके प्रोफेशनल करियर पर भी पड़ा था. बता दें, फिल्म बाजी के लिए रिकॉर्डिंग करते वक्त वह गुरु दत्त से पहली बार मिली थीं. धीरे-धीरे दोनों के बीच प्यार की पींगे बढ़ीं. जिसके बाद 26 मई 1953 को दोनों ने शादी कर ली. गीता और गुरु दत्त के 3 बच्चे हैं.

उनकी शादी में तब भूचाल आया जब गुरु दत्त के वहीदा रहमान के साथ अफेयर की खबरें आने लगी थीं. दोनों के रिश्ते में तल्खियां बढ़ने लगीं. कहा जाता है गुरु दत्त उन्हें लेकर एक फिल्म बनाना चाहते थे लेकिन अफेयर की खबरों से नाराज गीता ने पति की यह फिल्म करने से मना कर दिया था. धीरे-धीरे गानों को लेकर उनका रवैया ढीला होता गया. पारिवारिक समस्या में उलझी गीता को अपनी अनुशासनहीनता की वजह से कई प्रोजेक्ट्स से हाथ धोना पड़ा.

16 साल की उम्र में गीता ने फिल्म के लिए अपना पहला गाना गाया था. 1947 में हनुमान प्रसाद ने धार्मिक फिल्म 'भक्त प्रहलाद' में उन्हें लॉन्च किया था. हालांकि, उन्हें इस फिल्म में कुछ गानों की बस दो लाइनें गाने को मिली थी. लेकिन उनकी मधुर आवाज में गाई चंद लाइनों ने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया था.

एस डी बरमन भी गीता दत्त के गाने सुनने के बाद उनसे काफी प्रभावित हुए. उन्होंने एस डी बरमन के लिए 72 गाने गाए, जिनमें से 43 सोलो सॉन्ग थे. जिसके बाद उन्होंने तुरंत ही गीता से संपर्क किया. 1947 में उन्होंने फिल्म 'दो भाई' के गाने गाए.

Read more!

RECOMMENDED