भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने की खुदकुशी, मरने से पहले किया फेसबुक लाइव

भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक ने मुंबई स्थित अपने फ्लैट पर फांसी लगाकर जान दे दी है. मुंबई के दहिसर में स्थित घर में उनकी बॉडी फंदे पर लटकती पाई गई.

अनुपमा पाठक
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 06 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 11:52 PM IST

पिछले कुछ महीनों में कई कलाकारों ने खुदखुशी करके अपनी जान दे दी है. इसी क्रम में अब भोजपुरी एक्ट्रेस अनुपमा पाठक के सुसाइड करने की खबर सामने आई है. समाचार एजेंसी IANS के ट्वीट के मुताबिक उन्होंने मुंबई स्थित अपने फ्लैट पर फांसी लगाकर जान दे दी है. मुंबई के दहिसर में स्थित घर में उनकी बॉडी फंदे पर लटकती पाई गई. 40 वर्षीय अभिनेत्री द्वारा सुसाइड करने की खबर सभी के लिए एक शॉक रही है. वह अपनी मौत से एक दिन पहले ही सोशल मीडिया पर लाइव आई थीं और अपने फैन्स ने रूबरू हुई थीं.

अपने फेसबुक लाइव में अनुपमा ने लोगों के सामने अपने दिल की बात कही थी. उन्होंने अपने फेसबुक लाइव में कहा कि किसी पर भी भरोसा नहीं करना चाहिए. साथ ही उन्होंने अपने वीडियो में ये भी बताया कि किस तरह उन्हें धोखा दिया गया है. खबरों की मानें तो अनुपमा के फ्लैट से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है जिसमें उन्होंने ये कदम उठाने के दो कारण बताए हैं. उन्होंने इस सुसाइड नोट में लिखा, "मैंने एक दोस्त की रिक्वेस्ट पर मलाड की विसडम प्रोड्यूसर कंपनी में 10 हजार रुपये निवेश किए थे. कंपनी को मेरे पैसे दिसंबर 2019 में वापस करने थे. हालांकि कंपनी मेरा पैसा वापस करने में आनाकानी कर रही है." उन्होंने अपने सुसाइड नोट में मनीष झा नाम के एक शख्स का भी जिक्र किया है.

लॉकडाउन में रणवीर सिंह ने बनाई बॉडी, टाइगर ने भी किया कमेंट

अमिताभ ने मांगी माफी, प्रसून जोशी की कविता को बता दिया बाबूजी की रचना

अनुपमा ने अपने सुसाइ़ड नोट में बताया कि किस तरह मनीष झा ने लॉकडाउन में उनसे उनका टू व्हीलर ले लिया था और बाद में इसे वापस करने से इनकार कर दिया. अनुपमा की आखिरी फेसबुक पोस्ट में उन्होंने रात के ठीक 12 बजे बाय बाय और गुड नाइट लिखा है.

फेसबुक पोस्ट में क्या कहा?

अपने फेसबुक पोस्ट में अनुपमा ने कहा है कि वह आमतौर पर फेसबुक लाइव नहीं आती हैं लेकिन आज वह कुछ बातें शेयर करने आई हैं. उन्होंने कहा कि जब किसी की मौत हो जाती है तो लोग बहुत तरह की बातें करते हैं कि अगर वह बताती तो कुछ हल निकाला जाता. लेकिन ये सब कहने की बातें हैं. किसी की कोई दिक्कत हल नहीं करता है. अनुपमा ने कहा कि आप खुद कभी आजमा कर देखिए. इस तरह का कदम इंसान तब उठाता है जब वह थक जाता है और उसका दिमाग काम करना बंद कर देता है.

अनुपमा ने अपनी पोस्ट में कहा कि मैंने इन चीजों को बहुत करीब से महसूस किया है. अगर आप किसी को जाकर ये बताते हैं कि हम ऐसा कदम उठाने जा रहे हैं और हम आपको ये बता रहे हैं ताकि हमारे जाने के बाद आप ये दुनिया को बता सको. अगर आप ऐसा कहते हो तो देखो वो लोग क्या कहते हैं. उनका रिएक्शन ये होता है कि आप ये सब हमें क्यों बता रहे हैं. आप हमें दिक्कत में क्यों डालना चाहते हो. अनुपमा ने इस तरह की ढेरों बातें अपने फेसबुक लाइव में कही हैं.

Read more!

RECOMMENDED