प्रतिभा पाटिल: रचा था यह इतिहास, गिफ्ट ले जाने से भी हुई चर्चा

प्रतिभा देवी सिंह पाटिल का जन्म 19 दिसम्बर, 1934 को महाराष्ट्र के जलगांव में हुआ था. प्रतिभा पाटिल स्वतंत्र भारत के 60 साल के इतिहास में देश के सर्वोच्च पद तक पहुंचने वाली प्रथम महिला राष्ट्रपति हैं.

प्रतिभा पाटिल
मोहित पारीक
  • नई दिल्ली,
  • 19 दिसंबर 2017,
  • अपडेटेड 8:15 AM IST

प्रतिभा देवी सिंह पाटिल का जन्म 19 दिसम्बर, 1934 को महाराष्ट्र के जलगांव में हुआ था. प्रतिभा पाटिल स्वतंत्र भारत के 60 साल के इतिहास में देश के सर्वोच्च पद तक पहुंचने वाली प्रथम महिला राष्ट्रपति हैं. प्रतिभा पाटिल कांग्रेस पार्टी के साथ काफी लम्बे समय से जुड़ी रहीं और राष्ट्रपति पद के लिए चुने जाते समय वो राजस्थान की राज्यपाल थीं. वो 2007 से 2012 तक देश की 12वीं राष्ट्रपति रहीं.

1962 में उन्होंने राजानीति में प्रवेश किया था. वो 1962 में जलगांव से विधायक निर्वाचित हुईं. इसके बाद 1967 से 1985 के बीच उन्होंने मक्तेनगर से जीत दर्ज की. 1985 में वह राज्यसभा सांसद के रुप में चुन ली गईं. उसके बाद 1991 में लोकसभा के लिए अमरावती से चुनी गईं. हालांकि बाद में उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया.

भिखारी ठाकुर: एक आम आदमी जिसने भोजपुरी को बना दिया खास...

हालांकि अपने कार्यकाल के दौरान वे कई बार खबरों में रहीं. कभी कार प्रयोग को लेकर तो कभी पोस्‍ट रिटायरमेंट के लिए बन रहे बंगले को लेकर. प्रतिभा पाटिल ने पोस्‍ट रिटायरमेंट के लिए पुणे में एक जमीन पर घर का निर्माण आरंभ कराया था. इस पर भी काफी विवाद हुआ था. मीडिया में खबरें आई थीं कि ये जमीन डिफेंस को दी जानी थी.

विजय दिवस: जब 92 हजार पाक सैनिकों ने कर दिया था सरेंडर

वहीं एक आरटीआई के जवाब में पता चला था कि जिसके जवाब में पता चला था कि पाटिल राष्‍ट्रपति पद से रिटायर होने के बाद अपने साथ 150 गिफ्ट ले गई थीं. इनमें से ज्‍यादातर गिफ्ट वो थे जो उन्‍हें विदेश यात्राओं के दौरान या विदेशी राष्‍ट्रपतियों, प्रधानमंत्री के आने पर तोहफे स्‍वरूप मिले थे. आमतौर पर इस तरह के तोहफों को राष्‍ट्रपति, अपना कार्यकाल समाप्‍त होने के बाद रष्‍ट्रपति भवन में ही छोड़ देते हैं.

Read more!

RECOMMENDED