गौरी लंकेश की हत्या के आरोपी के लिए चंदा जुटा रही श्रीराम सेना, FB पर की अपील

श्रीराम सेना की विजयपुरा जिला इकाई ने गौरी लंकेश की हत्या का जुर्म कबूल कर चुके परशुराम वाघमोरे के परिवार की मदद के लिए लोगों से चंदा देने की अपील की है.

गौरी लंकेश के हत्यारे के लिए मांगा जा रहा चंदा
आशुतोष कुमार मौर्य/नागार्जुन
  • बेंगलुरु,
  • 17 जून 2018,
  • अपडेटेड 3:29 PM IST

वरिष्ठ पत्रकार एवं एक्टिविस्ट गौरी लंकेश की हत्या से एकबार फिर हिंदुत्ववादी संगठन श्रीराम सेना का नाम जुड़ा है. श्रीराम सेना की विजयपुरा जिला इकाई ने गौरी लंकेश की हत्या का जुर्म कबूल कर चुके परशुराम वाघमोरे के परिवार की मदद के लिए लोगों से चंदा देने की अपील की है.

श्रीराम सेना के कई कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने फेसबुक पेज से इस संबंध में अपील वाला पोस्टर शेयर किया है. श्रीराम सेना ने जारी की गई अपील में कहा है कि परशुराम वाघमोरे का परिवार गरीब है.

पोस्टर में परशुराम वाघमोरे की एक तस्वीर भी लगी है और लिखा है, 'धर्म की रक्षा करने वाले की आर्थिक मदद को आगे आएं.' इस पोस्टर में बैंक अकाउंट की पूरी डिटेल भी है, जिसमें चंदे की राशि जमा करने के लिए कहा गया है.

गौरी लंकेश को बेंगलुरू के उनके आवास के ठीक सामने 5 सितंबर, 2017 को गोली मारने वाले परशुराम वाघमोरे के लिए सोशल मीडिया पर की गई इस अपील से संबंधित एक पोस्टर को श्रीराम सेना के फेसबुक पोस्ट के साथ भी शेयर किया गया है.

गौरी लंकेश की हत्या के पीछे कई हिंदुत्ववादी संगठनों के नाम सामने आते रहे हैं. हालांकि इन सभी संगठनों ने साफ-साफ इनकार किया है कि इस हत्याकांड से उनके संगठन का कोई लेना-देना है. गौरी लंकेश पर गोली चलाने वाले परशुराम वाघमोरे की गिरफ्तारी के बाद शनिवार को एकबार फिर श्रीराम सेना ने इस मामले से किनारा कर लिया.

मामले की जांच कर रही SIT ने शनिवार को मुख्य आरोपी परशुराम के पिता और श्रीराम सेना के विजयपुरा जिला अध्यक्ष राकेश मथ से भी पूछताछ की. वहीं श्रीराम सेना ने इस मामले में गिरफ्तार परशुराम वाघमोरे से पल्ला झाड़ते हुए उसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) का सदस्य बताया है.

ज्ञात हो कि राकेश मथ मुख्य आरोपी वाघमोरे का मित्र है. राकेश मथ ने परशुराम को पूरी तरह निर्दोष बताया और कहा, 'आप ऐसा कैसे कह सकते हैं कि परशुराम ने ही हत्या की है. वह एक भला आदमी है. जब तक कोर्ट में साबित नहीं हो जाता उसे हत्यारा नहीं कहा जा सकता.'

गिरफ्तारी के बाद से विचलित सा है परशुराम

पुलिस ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद से ही परशुराम वाघमोरे दिमागी रूप से स्थिर नहीं है. उसने अपने माता-पिता से मिलने की इच्छा जाहिर की. शनिवार को उसके पिता अशोक उससे मिलने भी आए. हालांकि दोनों के बीच ज्यादा बातचीत नहीं हो सकी.

पिता ने वाघमोरे से उसका हाल पूछा, जिसके जवाब में वाघमोरे ने कहा कि वह अच्छा है. वाघमोरे ने हालांकि पिता से अगली बार मां को भी साथ लाने के लिए कहा. बता दें कि गिरफ्तारी के 10 मिनट के अंदर ही वाघमोरे ने पुलिस वाहन में कबूल कर लिया कि उसने ही गौरी लंकेश को गोली मारी थी.

'धर्म की रक्षा के लिए की गौरी लंकेश की हत्या'

परशुराम वाघमोरे ने पूछताछ के दौरान बताया कि उससे कहा गया था कि धर्म की रक्षा के लिए उसे गौरी लंकेश की हत्या करनी है. इसके लिए उसे बाकयदा कई महीने ट्रेनिंग भी दी गई. उसे यह ट्रेनिंग बेलगाम में दी गई थी, जहां उसने करीब 500 राउंड फायर कर बंदूक से निशाना लगाने का अभ्यास किया था.

वाघमोरे ने बताया कि एक दिन पहले भी उसने गौरी लंकेश की हत्या की कोशिश की थी, लेकिन उस दिन वह असफल रहा था. हालांकि अगले ही दिन उसने बिल्कुल नजदीक से गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या कर दी.

वाघमोरे ने बताया कि गौरी लंकेश की हत्या करने के बाद उसी दिन वह बीजापुर लौट गया. उसने पुलिस को बताया कि उसे हत्या वाले दिन ही बंदूक दी गई थी और उसे नहीं पता कि उसे कौन सी बंदूक दी गई थी. साथ ही उसने कहा कि उसे पता था कि वह एक दिन पकड़ा जाएगा.

Read more!

RECOMMENDED