विवादों में रही रोहित शेखर की जिंदगी, अब मौत भी सवालों के घेरे में

रोहित शेखर राजधानी दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में अपनी मां उज्ज्वला तिवारी के साथ रहते थे, जहां पर उनकी मौत हुई. उन्हें फौरन साकेत मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया.

रोहित शेखर की मौत पर भी सवाल
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 17 अप्रैल 2019,
  • अपडेटेड 8:33 AM IST

उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर का मंगलवार को संदिग्ध परिस्थितियों में निधन हो गया. 40 साल के रोहित की मौत की खबर जैसे ही आई तो हर कोई हैरान था. मंगलवार को रोहित को अचेत अवस्था में मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित किया गया. उनकी मौत की वजह अभी तक साफ नहीं हो पाई है.

अपने हक के लिए लंबी लड़ाई लड़ने वाले रोहित शेखर की मौत भी संदिग्ध तरीकों से हुई. दरअसल, कई रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि रोहित की मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई है, तो वहीं ये भी कहा जा रहा है कि जब उन्हें अस्पताल ले जाया गया तो उनके मुंह से खून निकल रहा था. हालांकि, अभी किसी भी तरह के आधिकारिक बयान का इंतजार है.

कहां हुई थी मौत?

रोहित शेखर राजधानी दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में अपनी मां उज्ज्वला तिवारी के साथ रहते थे, जहां पर उनकी मौत हुई. उन्हें फौरन साकेत मैक्स हॉस्पिटल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों ने जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया.

रोहित की मौत पर उनकी मां उज्ज्वला ने कहा कि उन्हें किसी पर शक नहीं है, ये प्राकृतिक ही है. लेकिन वह इस बात का खुलासा बाद में करेंगी कि रोहित की मौत किन परिस्थितियों में हुई.

पुलिस ने क्या दिया बयान?

संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के कारण मामला पुलिस तक पहुंचा, इसलिए उनका पोस्टमार्टम भी होना है. अभी रिपोर्ट का इंतजार है, लेकिन इससे पहले पुलिस का बयान सामने आया है. पुलिस उपायुक्त विजय कुमार ने बताया कि डिफेंस कॉलोनी निवासी रोहित शेखर तिवारी को उनकी पत्नी और मां दक्षिण दिल्ली के मैक्स अस्तपास लेकर गईं, लेकिन उनकी मौत हो चुकी थी.

जब रोहित शेखर को अस्पताल ले जाया गया, तो उनकी नाक से खून निकल रहा था. घर पर मौजूद नौकरों ने शेखर की मां को फोन किया जो उस वक्त अस्पताल में चेक अप करवाने गई थी.

पहचान के लिए लड़ी थी लंबी लड़ाई

बता दें कि एन.डी. तिवारी का निधन बीते साल 18 अक्टूबर को हुआ था. साल 2008 में रोहित शेखर ने अदालत में मामला दायर कर खुद को एन.डी. तिवारी का बेटा बताया था, शुरू में उन्होंने इससे इनकार किया, लेकिन बाद में डीएनए जांच से साबित हुआ कि रोहित, एन.डी.तिवारी के पुत्र हैं. इसके बाद तिवारी ने 2014 में 89 साल की उम्र में रोहित शेखर की मां से शादी की थी.

Read more!

RECOMMENDED