मुफ्ती शहजाद अरेस्ट, PFI का आरोप- पुलिस ने नहीं बताई गिरफ्तारी की वजह

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया नॉर्थ जोन के अध्यक्ष एएस इस्माइल ने मुफ्ती मोहम्मद शाहजाद की गिरफ्तारी पर यूपी सरकार की आलोचना की है. यूपी पुलिस ने PFI सदस्य मोहम्मद शाहजाद को उसके गाजियाबाद स्थित घर से गिरफ्तार किया था.

मुफ्ती शहजाद पर हिंसा भड़काने का आरोप (फाइल फोटो)
रामकिंकर सिंह
  • नई दिल्ली,
  • 07 जून 2020,
  • अपडेटेड 5:02 PM IST

  • मुफ्ती शहजाद के खिलाफ मेरठ में FIR दर्ज
  • PFI ने योगी सरकार पर दमन का लगाया आरोप

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में भड़की हिंसा मामले में नोएडा एटीएस और मेरठ पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के वॉन्टेड सदस्य मुफ्ती शहजाद को गिरफ्तार किया है. पीएफआई के नॉर्थ जोन के अध्यक्ष एएस इस्माइल ने गिरफ्तारी की निंदा की है.

मोहम्मद शाहजाद को उसके गाजियाबाद स्थित घर से गिरफ्तार किया गया है. पीएफआई के मुताबिक मोहम्मद शाहजाद के पिता मोहम्मद उमर का आरोप है कि 5 जून को शाम 4 बजकर 30 मिनट पर 30 से 40 पुलिसकर्मी आए और नाकेपुर स्थित घर से उसे ले गए. पुलिस ने गिरफ्तारी की कोई वजह नहीं बताई है.

आरोप है कि पुलिस ने कोई गिरफ्तारी की वजह नहीं बताई. उसके परिजन लगातार पुलिस से गिरफ्तारी के बारे में सवाल पूछ रहे थे. पुलिस ने यह भी नहीं बताया कि किस थाने में उसे लेकर जा रहे हैं.

पीएफआई का कहना है कि शाहजाद ने हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की थी. याचिका में यह मांग की गई थी कि सीएए-एनआरसी प्रोटेस्ट के दौरान उत्तर प्रदेश में भड़की हिंसा की जांच की जाए.

CAA: मेरठ में हिंसा भड़काने का आरोपी मुफ्ती शहजाद गिरफ्तार, पोस्टर बांटने का है आरोप

पीएफआई ने कहा कि पुलिस याचिका दर्ज होने के बाद से ही उसे और उसके परिजनों को परेशान कर रही है. यह अभी तक नहीं पता है कि उन्हें कहां रखा गया है. पॉपुलर फ्रंट का दावा है कि मुफ्ती मोहम्मद शाहजाद ने ऐसा कुछ नहीं किया है कि उसे गैरकानूनी प्रताड़ना झेलनी पड़े.

संगठन का कहना है कि नागरिक अधिकारों और न्याय की बात करने वाले लोगों की आवाज यूपी में दबाई जा रही है. सीएम योगी पर भी पॉपुलर फ्रंट ने संवैधानिक अधिकारों के उल्लंघन का आरोप लगाया है.

UP: एक साथ 25 स्कूलों में पढ़ाने वाली टीचर गिरफ्तार, लगाया एक करोड़ का चूना

वहीं इस मामले पर पुलिस का कहना है कि मुफ्ती शहजाद ने 20 दिसंबर से पहले मेरठ जनपद में पोस्टर बांटने का जुर्म स्वीकार किया है. शहजाद पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का सक्रिय सदस्य है. अभी अभियुक्त के अकाउंट नंबर और अन्य सहयोगियों के बारे में पूछताछ की जा रही है.

Read more!

RECOMMENDED