JNU Case: इन नारों से फंसे कन्हैया-उमर खालिद, जा सकते हैं जेल, जानें- किस पर क्या हैं आरोप

दिल्ली पुलिस ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में तीन साल पहले लगे नारों पर अदालत में चार्जशीट दाखिल कर दी है. इस मामले में पुलिस ने कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य समेत सात कश्मीरी छात्रों को मुख्य आरोपी बनाया है. इनके अलावा 36 लोगों के नाम घटनास्थल पर मौजूद रहने वालों में शामिल हैं. पुलिस ने आरोपों को मजबूत करने के लिए वीडियो सबूत और वहां मौजूद लोगों की गवाही भी पेश की है.

उमर, कन्हैया और अनिर्बान (फोटो- पीटीआई)
अरविंद ओझा
  • नई दिल्ली,
  • 14 जनवरी 2019,
  • अपडेटेड 10:40 PM IST

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में फरवरी 2016 में लगे नारों के मामले में दिल्ली पुलिस ने अपनी चार्जशीट कोर्ट में दाखिल कर दी है. इस चार्जशीट में जेएनयू के पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, छात्र नेता उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को मुख्य आरोपी बनाया गया है. इन तीनों को इस मामले में जेल भी जाना पड़ा था.

दिल्ली पुलिस की 1200 पन्नों की चार्जशीट पर क्या संज्ञान लेना है, इसपर अदालत मंगलवार को फैसला करेगी. इस चार्जशीट में सात कश्मीरी छात्रों को भी मुख्य आरोपी बनाया गया है. इनके अलावा 36 अन्य को कॉलम नंबर 12 में आरोपी बनाया गया है, जो कि कथित तौर पर घटनास्थल पर मौजूद थे.

चार्जशीट में मुख्य आरोपी कन्हैया कुमार, उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य हैं. इनके अलावा सात अन्य मुख्य आरोपियों में सात कश्मीरी छात्र हैं, जिनमें- मुजीर (जेएनयू), मुनीर (एएमयू), उमर गुल (जामिया), बशरत अली (जामिया), रईस रसूल (बाहरी), आकिब (बाहरी) और खालिद भट (जेएनयू) का नाम है.

इनके अलावा, नारेबाजी वाली जगह पर मौजूद 36 आरोपियों में शेहला राशिद, अपराजिता राजा, रामा नागा, बनज्योत्सना, आशुतोष, ईशान आदि हैं. केस के सबूत के तौर पर वीडियो फुटेज और 100 से ज्यादा प्रत्यक्षदर्शियों की गवाही है.

चार्जशीट के मुताबिक ये नारे लगे थे जेएनयू में

हम क्या चाहते आजादी

हम लेके रहेंगे आजादी

गो इंडिया, गो बैक

संगबाजी वाली आजादी (पत्थर फेंकने के लिए आजादी)

भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाअल्लाह

कश्मीर की आजादी तक जंग रहेगी

भारत की बर्बादी तक आजादी

भारत के मुल्क को एक झटका और दो

भारत को एक रगड़ा और दो

हम छीन के लेंगे आजादी, लड़के लेंगे आजादी

तुम कितने मकबूल मारोगे, हर घर से मकबूल निकलेगा

इंडियान आर्मी को दो रगड़ा

इंडियन आर्मी पे हल्ला बोल

उमर और अनिर्बान ने कहा- झूठी सरकार के झूठे आरोप

उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य ने कहा है कि ये सारे आरोप झूठे हैं और वे इनका कानूनी तौर पर मुकाबला करेंगे. दोनों ने संयुक्त बयान में कहा है कि सरकार झूठ बोलने और जुमलेबाजी में माहिर है और चुनाव नजदीक आते ही मंदिर, मूर्ति, 10 फीसदी आरक्षण और एंटी-नेशनल जैसे मुद्दे सामने आ रहे हैं.

इनके अलावा कन्हैया कुमार ने भी इस मामले पर ट्वीट कर अपनी बात रखी है-

छात्र संघ खड़ा है साथ

जेएनयूएसयू ने कहा है कि मौजूदा केंद्र सरकार अपने काम में असफल रही है, इसलिए लोक सभा चुनावों से ठीक पहले तीन साल पुराने केस में चार्जशीट दाखिल की है. छात्र संघ ने कहा है कि वह इन बोगस चार्जों के अलावा अपने हर विद्यार्थी के साथ मजबूती से खड़ा रहेगा.

एबीवीबी बोला- ये हमारी जीत

इस मामले में शिकायत करने वाले छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने कहा है कि यह निर्णय एबीवीपी की जीत है. यह उन तथ्यों की जीत है जो एबीवीपी ने उसी समय सबके सामने रखे थे. यह कांग्रेस और उन सभी राजनीतिक लोगों पर तमाचा है जो उनका समर्थन कर रहे थे. राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल अब शांत क्यों हैं? उनको देश से माफी मागनी चाहिए.

Read more!

RECOMMENDED