गुरुग्राम: ICU में भर्ती नाबालिग से छेड़छाड़ के बाद रेप की कोशिश

साइबर सिटी गुरुग्राम के सेक्टर 14 थाना क्षेत्र में एक निजी अस्पताल के दो नर्सिंग स्टाफ पर नाबालिक मरीज से छेड़छाड़ और रेप करने की कोशिश का मामला सामने आया है. गुरुग्राम पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत पर केस दर्ज करके दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

साइबर सिटी गुरुग्राम के सेक्टर 14 की घटना
मुकेश कुमार/तनसीम हैदर
  • गुरुग्राम,
  • 28 नवंबर 2017,
  • अपडेटेड 3:02 PM IST

साइबर सिटी गुरुग्राम के सेक्टर 14 थाना क्षेत्र में एक निजी अस्पताल के दो नर्सिंग स्टाफ पर नाबालिक मरीज से छेड़छाड़ और रेप करने की कोशिश का मामला सामने आया है. गुरुग्राम पुलिस ने पीड़ित परिवार की शिकायत पर केस दर्ज करके दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इस मामले की जांच की जा रही है.

जानकारी के मुताबिक, यह मामला गुरुग्राम के वेस्ट राजीव नगर के शिवा अस्पताल का है. यहां इलाज के लिए आई एक छात्रा से अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ ने छेड़छाड़ कर दी. इसके बाद वे पीड़िता को रेस्ट रूम में ले गए, जहां उसके साथ रेप की कोशिश कर डाली. पीड़िता ने जब शोर मचाया, तब जाकर ने वहां से भागे.

पीड़िता के परिजनों के मुताबिक, 16 नवंबर को उनकी बेटी ने कोल्ड ड्रिंक समझ कर घर में रखा पेस्टिसाइड पी लिया. इसके बाद उसकी तबियत खराब होने लगी. वे लोग उसे लेकर सिविल अस्पताल आए. वहां उसे भर्ती कराया. कुछ देर बाद ही पीड़ित परिवार पीड़िता को लेकर गुरुग्राम के वेस्ट राजीव नगर स्थित शिवा अस्पताल ले गए.

पुलिस के मुताबिक, उस दिन पीड़िता को आईसीयू में रखा गया. रात को रविंद्र और कुलदीप दो नर्सिंग स्टाफ पीड़िता के पास आए. जांच के नाम पर पहले तो उससे छेड़छाड़ की, उसके बाद उसे लेकर रेस्ट रूम में गए. वहां आरोपियों ने उसके साथ रेप की कोशिश भी की, लेकिन पीड़िता के चीखने की आवाज सुनकर लोग आ गए.

पीड़िता के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की संबंधित धाराओं में केस दर्ज कर लिया. दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है. निजी अस्पतालों की मनमानी की कई घटनाएं पहले भी सामने आ चुकी है. अब अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ पर रेप जैसे आरोप लोगों को डरा रहे हैं.

इस मामले में सबसे हैरानी की बात तो ये है कि जिस आईसीयू में 24 घंटे सीसीटीवी से निगरानी की बात की जाती है, वहां का फुटेज तक पुलिस को नहीं मिल पाया है. इस संबंध में अस्पताल प्रबंधन से बात करने की कोशिश की गई, तो उसने आरोपी स्टाफ को नौकरी से निकल कर पुलिस जांच में सहयोग करने की बात कही है.

Read more!

RECOMMENDED