CRIME CAPSULE: दिल्ली में दो जगहों पर लगी आग में 4 की मौत

क्राइम कैप्सूल में आज पढ़िए दिल्ली एनसीआर में आज की जुर्म की अहम खबरें...

जुर्म की दुनिया की आज की बड़ी खबरें
चिराग गोठी/आशुतोष कुमार मौर्य/अरविंद ओझा
  • नई दिल्ली,
  • 05 मई 2018,
  • अपडेटेड 8:55 PM IST

क्राइम कैप्सूल में आज पढ़िए दिल्ली एनसीआर में आज की जुर्म की अहम खबरें...

दिल्ली: शार्ट सर्किट से घर में लगी आग, 2 मासूम बच्चों की मौत

दिल्ली के आदर्श नगर में शार्ट सर्किट के कारण घर में लगी आग के चलते एक ही परिवार के दो मासूम बच्चों की मौत हो गई. आग बुझाने के लिए 8 से 10 दमकल लगे. आग पर तो किसी तरह काबू पा लिया गया, लेकिन सगे भाई-बहनों की जान नहीं बचाई जा सकी.

पुलिस ने बताया कि केवल पार्क के 230 नंबर मकान में शुक्रवार की रात करीब 10 बजे आग लगी. कांग्रेस कार्यकर्ता अनुराग गर्ग के घर के फर्स्ट फ्लोर पर लगी यह आग जल्द ही दूसरे फ्लोर तक पहुंच गई. अनुराग अपने परिवार के साथ फर्स्ट फ्लोर पर रहते हैं, जबकि दूसरे फ्लोर पर उनके छोटे भाई अपने परिवार के साथ रहते हैं.

बताया जा रहा है कि जिस समय आग लगी अनुराग के छोटे भाई किसी फंक्शन में शरीक होने बाहर गए हुए थे और दूसरे फ्लोर पर उनका 9 साल का बेटा सार्थक और 7 साल की बेटी अक्षरा अकेले थे. आग लगने के बाद इतनी अफरा-तफरी मची कि बच्चे ऊपर सेकेंड फ्लोर में कमरे में ही फंसे रह गए और दम घुटने से उनकी मौत हो गई.

दिल्ली: टेंट के गोदाम में लगी आग, 2 मजदूरों की मौत

साउथ दिल्ली के कोटला मुबारकपुर में शनिवार को एक टेंट हाउस के गोदाम में लगी आग में झुलसकर दो मजदूरों की मौत हो गई. कई घंटों की मशक्कत के बाद करीब 10 दमकलों की मदद से आग पर काबू पाया गया.

जानकारी के मुताबिक, जिस समय आग लगी गोडाउन में 6 से ज्यादा मजदूर सो रहे थे. आग शनिवार को तड़के करीब 3 बजे लगी. अब तक आग लगने की वजह तो पता नहीं चल सकी है, लेकिन शुरुआती संकेत बताते हैं कि शॉर्ट सर्किट के चलते आग लगी होगी.

गोडाउन में टेंट का सामान रखा हुआ था, जिसके कारण आग भड़की और एकाएक इसकी चपेट में 2 मजदूर आ गए. जिन मजदूरों की मौत हुई उनकी पहचान श्याम और अनिल के रूप में हुई है. दोनों बिहार के रहने वाले हैं और पिछले 6 महीने से यहां पर काम कर रहे थे.

दिल्ली: पुलिस ने 9 महीने में ढूंढ निकाले 54 बच्चे

दिल्ली पुलिस की 'स्पेशल 7' टीम ने लापता बच्चों की तलाशी में शानदार अभियान चलाते हुए अभूतपूर्व सफलता हासिल की. देश के विभिन्न हिस्सों से भागकर या बहला-फुसलाकर दिल्ली में लाए गए बच्चों की खोज के लिए यह अभियान चलाया गया था.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक, बीते 9 महीने में दिल्ली पुलिस ने 54 लापता बच्चों को ढूंढ निकाला. खोज निकाले गए इन बच्चों की उम्र 9 से 13 साल के बीच है. ये बच्चे पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के हैं.

कई मामलों में पुलिस ने बच्चों का डीएनए टेस्ट भी करवाया, ताकि उनके परिजनों की प्रॉपर आइडेंटिफिकेशन हो सके. पुलिस ने बताया कि बच्चों की तलाश के लिए गूगल मैप का भी सहारा लिया गया.

Read more!

RECOMMENDED