अयोध्या: दिल दहलाने वाली घटना, 2 महीनों से शवों के साथ रह रही थी महिला

पिता की मौत के बाद पुष्पा श्रीवास्तव और उनकी दो बेटियां, विभा और दीपा मानसिक रूप से बीमार हो गईं. उन्होंने पड़ोसियों के साथ बातचीत करना बंद कर दिया था. पुष्पा और विभा की मौत लगभग दो महीने पहले हुई थी और तीसरी बेटी दीपा उनके शवों के साथ रह रही थी.

प्रतीकात्मक तस्वीर
aajtak.in
  • अयोध्या,
  • 09 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 2:00 PM IST

  • पुलिस ने महिला को मां और बहन के शवों के साथ सोता पाया
  • शव इस हद तक सड़ चुके थे कि हड्डियां दिख रही थीं- पुलिस

उत्तर प्रदेश के अयोध्या से एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है जहां एक महिला अपनी मां और बहन के शवों के साथ दो महीने से अधिक समय से रह रही थी. देवकली पुलिस थाना क्षेत्र की आदर्श नगर कॉलोनी में पड़ोसियों ने तेज बदबू आने की शिकायत की. जिसके बाद पुलिस ने गुरुवार को घर की छानबीन की. जब पुलिस ने दरवाजा खोलने तो दीपा को अपनी मां पुष्पा श्रीवास्तव और बहन विभा के मृत शरीर के साथ सोता पाया.

महिला के पिता थे सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट

सर्किल अधिकारी अरविंद चौरसिया ने संवाददाताओं को बताया कि दीपा के पिता व पूर्व सब-डिविजनल मजिस्ट्रेट विजेंद्र श्रीवास्तव की 1990 में मौत हो गई थी. वह अपनी मां और तीन बहनों के साथ घर में रहती थी, जिनमें से एक रूपाली की कुछ साल बाद मौत हो गई.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक पिता की मौत के बाद पुष्पा श्रीवास्तव और उनकी बाकी दो बेटियां, विभा और दीपा मानसिक रूप से बीमार हो गईं. उन्होंने पड़ोसियों के साथ बातचीत करना बंद कर दिया था. पुष्पा और विभा की मौत लगभग दो महीने पहले हुई थी और दीपा उनके शवों के साथ रह रही थी.

पुलिस ने किया बड़ा खुलासा

पुलिस अधिकारी ने कहा, 'शव इस हद तक सड़ चुके थे कि हड्डियां दिखाई दे रही थीं, जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि दोनों की मौत करीब दो महीने पहले हुई होगी, लेकिन जांच के बाद ही मौत का सही समय पता चल पाएगा.'

मौत के कारण का पता लगाने के लिए शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और दीपा को मेडिकल परीक्षण के लिए भेजा गया है और फिर उसकी स्थिति के आधार पर उसे कहां रखा जाएगा, इस पर फैसला किया जाएगा.

Read more!

RECOMMENDED