पुलिस एंड इंटेलिजेंस

हुगली: झूठे रसूख की धौंस दिखाकर ठगी, 6 नीली बत्ती की कार, 5 प्रेस स्टिकर की म‍िलीं बाइक

aajtak.in
  • हुगली ,
  • 13 जुलाई 2021,
  • अपडेटेड 1:27 PM IST
  • 1/8

कभी अपने आप को विजिलेंस कमीशन का अधिकारी तो कभी अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन का कर्णधार तो कभी मीडिया हाउस का प्रमुख बताकर बेखौफ नीली बत्ती वालीकार में घूमता हुआ एक शख्स पुल‍िस ग‍िरफ्त में आया है. हुगली के चूचूरा का रहने वाला जालसाज रंजन सरकार, झूठे रसूख और धौंस दिखाकर रेल और सेंट्रल गवर्नमेंट के दफ्तरों में नौकरियां देने के नाम पर युवकों से लाखों रुपये रखने ऐंठता था. (हुगली से भोलानाथ साहा की र‍िपोर्ट)

  • 2/8

हुगली जिले के अंतर्गत चंदननगर पुलिस कमिश्नरेट के अधीन चूचूरा में पुलिस ने मानवाधिकार संगठन के कर्णधार का परिचय देकर नीले बत्ती वाली कार का इस्तेमाल करने के साथ साथ मोटरसाइकिल पर स्टिकर लगाकर घूमने वाले जालसाज रंजन सरकार को गिरफ्तार कर लिया है. इस बारे में जानकारी देते हुए चंदननगर पुलिस कमिश्नरेट के सीपी अर्णब घोष ने बताया कि पुलिस ने अभियुक्त रंजन सरकार को फिलहाल गिरफ्तार करके अपने हिरासत में ले लिया है.

  • 3/8

चंदननगर कमिश्नरेट के डीसी हेडक्वार्टर प्रवीण प्रकाश के अनुसार, फिलहाल घटनास्थल पर चंदन नगर कमिश्नरी के डीसी विदीत राज बुंदेस और एसीपी 1 मौमिता सेनगुप्ता के नेतृत्व में पुलिस के तरफ से गहन पूछताछ की जा रही है.

  • 4/8

आईपीसी डीसीपी विदित राज भुनदेश ने बताया कि सस्पेंस नाका चेकिंग के बाद एक संदेहास्पद व्यक्ति से पूछताछ करने पर जब पुलिस को तथाकथित फर्जी मानवाधिकार कमीशन के कर्णधार रंजन सरकार का पता चला जिसके बाद पुलिस की जांच में यह पाया गया कि रंजन सरकार फर्जी तरीके से जहां एक और मानवाधिकार संगठन, मीडिया तो दूसरी ओर विजिलेंस कमीशन के अधिकारी होने के फर्जी दस्तावेज बना रखे थे. पुलिस की जांच में कई और आपत्तिजनक चीज पाई गई हैं. 

  • 5/8

डीसीपी चंदननगर ने बताया कि अधिकारिक तौर पर अभियुक्त रंजन सरकार को गिरफ्तार कर लिया गया है. उन्होंने यह भी बताया कि बाकी विषयों की जांच अभी चल रही है. जांच के बाद ही पूरे मामले के रहस्य से पर्दा उठ पाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि जांच के दौरान जिन व्यक्तियों को मामले में शामिल होने का दोषी पाया जाएगा, उनके खिलाफ भी पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी.

  • 6/8

बताया जा रहा है कि फिलहाल अभियुक्त के पास से पुलिस ने कुल मिलाकर 6 नीली बत्ती लगी कार और 5 प्रेस स्टिकर लगी मोटरसाइकिल को जब्त कर लिया है. पुलिस इस बात का भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि अभियुक्त रंजन सरकार के तार कहां तक जुड़े हैं. पुलिस सूत्रों के अनुसार, अभियुक्त ने अपने घर और दफ्तर के बाहर इंटरनेशनल ह्यूमन राइट कमीशन के अधिकारी होने का बोर्ड लगा रखा है.
 

  • 7/8

उसने इस फर्जी संस्था के अधिकारी होने का दम भरते हुए नीली बत्ती वाले कार को इस्तेमाल करने के साथ-साथ प्रेस स्टिकर लगी मोटरसाइकिल का भी इस्तेमाल करता था. पुलिस को इस बात के भी अभियोग मिले हैं कि कई युवकों को रेलवे और केंद्र सरकार की नौकरियों में नौकरी दिलवाने के नाम पर अभियुक्त रंजन सरकार ने लाखों रुपए ऐंठने का काम किया है. 

  • 8/8

पुलिस अब इस बात का भी पता लगा रही है कि इस जालसाज ने और कितने लोगों को अपने चंगुल में फंसा कर कुल मिलाकर कुल कितने रुपये ठगने का काम किया है.

लेटेस्ट फोटो