क्राइम न्यूज़

Delhi Shootout: वकील के ड्रेस में आए थे हमलावर, गैंगस्टर गोगी पर बरसाई गोलियां, खुद भी मारे गए

aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 24 सितंबर 2021,
  • अपडेटेड 4:35 PM IST
  • 1/11

देश की राजधानी दिल्ली उस वक्त दहल गई जब रोहिणी कोर्ट में फिल्मी स्टाइल में गैंगवॉर शुरू हो गया. शुक्रवार की दोपहर को रोहिणी कोर्ट परिसर अचानक गोलियों की तड़तड़ाहट से गूंजने लगी. दिल्ली के मोस्ट वॉन्टेंड गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी की बदमाशों ने कोर्ट परिसर में ही गोली मारकर हत्या कर दी.

  • 2/11

इसके बाद कोर्ट में सुरक्षा में मौजूद जवान और हमलावरों के बीच गोलीबारी शुरू हो गई जिसमें अब तक कुल तीन लोगों के मारे जाने की पुष्टि की गई है. इसमें जितेंद्र उर्फ गोगी को मारने आए दोनों हमलावर भी शामिल हैं जो दिल्ली पुलिस के हाथों मारे गए.

  • 3/11

रोहिणी के डीसीपी प्रणव तयाल ने बताया कि हमलावर वकील का ड्रेस पहनकर कोर्ट परिसर में आए थे. उन्होंने गोगी पर कई गोलियां चलाई जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने भी फायरिंग की और दो बदमाश मारे गए.

  • 4/11

बता दें कोर्ट परिसर में अचानक गोलियां चलने से भगदड़ जैसी स्थिति मच गई और लोग जान बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे. इस दौरान एक महिला वकील भी घायल हो गई. रोहिणी कोर्ट परिसर में गोलीबारी के बाद परिसर को पूरी तरह सील कर दिया गया है और दिल्ली पुलिस के जवान मौके पर मौजूद हैं.

  • 5/11

गैंगेस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी जिसे बदमाशों ने कोर्ट रूम में गोली मार दी वो तिहाड़ जेल में बंद था. 2020 में गोगी की गिरफ्तारी के बाद  भारी मात्रा में गोलियां और असलहे बरामद हुए थे. गोगी पर दिल्ली में चार लाख और हरियाणा में 2 लाख का इनाम घोषित था.

  • 6/11

चर्चित हरियाणवी सिंगर और डांसर हर्षिता मर्डर केस में भी जितेंद्र उर्फ गोगी की संलिप्तता सामने आई थी.  इसके पास से 6 ऑटोमेटिक विदेशी पिस्टल, 70 से अधिक जिंदा कारतूस, पश्चिम विहार से लूटी गई एक कार बरामद की गई थी.

  • 7/11

इतना ही नहीं नरेला में आम आदमी पार्टी के नेता वीरेंद्र मान को गोगी गैंग के लोगों ने ही 26 गोलियां मारी थीं. 2018 में दिल्ली के बुराड़ी में टिल्लू गैंग से गोगी का गैंगवार हुआ था, जिसमें 3 लोगों की हत्या हुई थी और 5 लोग घायल हुए थे. 

  • 8/11

गैंगस्टर जितेंद्र गोगी को साल 2020 में कुलदीप फज्जा के साथ गुरुग्राम से गिरफ्तार किया गया था लेकिन फज्जा बाद में 25 मार्च को कस्टडी से फरार हो गया था. 

  • 9/11

फज्जा जीटीबी अस्पताल से फरार हुआ था जिसके बाद उसका एनकाउंटर कर दिया गया था. कुलदीप सिंह ने दिल्ली विश्वविद्यालय के सबसे प्रतिष्ठित कॉलेज में से एक किरोड़ीमल कॉलेज से वनस्पति विज्ञान विषय में ऑनर्स में टॉप किया था.  

  • 10/11

2013 में गांव में हुए मामूली झगड़े का बदला लेने के लिए उसने अपराध की दुनिया में कदम रखा और फिर उसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. 

  • 11/11

इस झगड़े के बाद अपराध की दुनिया में फंस जाने के बाद उसने कलम की जगह बंदूक उठा ली थी, इसके बाद उसने एक के बाद एक, लूटपाट, हत्याओं को अंजाम दिया और पुलिस की हिट लिस्ट में आ गया था.