साइबर क्राइम

बिहार: IAS बनने का ख्वाब देखने वाला बन गया ATM क्लोनर, पुलिस ने रंगे हाथों पकड़ा

राजेश कुमार झा
  • पटना ,
  • 14 जुलाई 2021,
  • अपडेटेड 7:42 PM IST
  • 1/7

पटना के कंकड़बाग थाना इलाके में UPSC की तैयारी करने वाला एक युवक एटीएम कार्ड क्लोन कर पैसा निकालने की कोशिश कर रहा था. पुलिस ने उसे रंगे हाथों पकड़ लिया. पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को बताया कि घर की आर्थिक स्थिति खराब होने के चलते उसने यह रास्ता चुना था. 

  • 2/7

पुलिस ने बताया कि आरोपी प्रेमिका को इम्प्रेस करने और बहन की शादी के लिए जल्दी पैसों का इंतजाम करना चाहता था. इसके लिए उसने एटीएम कार्ड को क्लोन करने का रास्ता चुना और यूट्यूब से सारी जानकारी हासिल की. कार्ड को क्लोन करने के इस्तेमाल होने वाली सभी डिवाइस उसने ऑनलाइन खरीदे. 
 

  • 3/7

आरोपी के पिता किसान हैं और उसे बहन की शादी भी करनी थी. साथ ही अपनी प्रेमिका को रिझाने के लिए पैसों का इंतजाम करना था. इसके लिए उसने यह शॉटकर्ट तरीका अपनाया. लेकिन उसकी यह चालबाजी ज्यादा दिन नहीं चल सकी और पुलिस ने उसे पकड़ लिया.   

  • 4/7

पुलिस को पूछताछ में उसने बताया कि उसने 11 हजार रुपये में इंडियामार्ट से ऑनलाइन डिवाइस खरीदे. वो क्लोनिंग स्ट्रीमर डिवाइस को एटीएम मशीन में लगाकर रुपये निकालने वाले ग्राहकों का एटीएम पिन नंबर देख लेता था. उसके बाद घर आकर डाटा का क्लोन करता फिर फर्जीवाड़ा कर पैसे निकाल लेता था. इसके अलावा उसने बताया कि वो पटना में यूपीएसी की तैयारी कर रहा है और डिफेंस के कई एग्जाम भी दे चुका है. 

  • 5/7

पटना के सिटी एसपी जितेंद्र कुमार ने बताया की पुलिस को एटीएम जालसाजी की सूचना मुंबई के बैंक अधिकारियों द्वारा मिली थी. इसके बाद इस एटीएम क्लोनिंग कर रुपये निकालने वाले राहुल की गिरफ्तारी हुई है. अब पुलिस उसके अन्य साथियों की तलाश कर रही है.  

  • 6/7

पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को बताया कि आर्थिक तंगी के कारण उसने यह योजना बनाई और यूट्यूब से सीखा कि कैसे एटीएम से बिना मेहनत से पैसे कमाए जा सकते हैं. बैंक ऑफ बड़ौदा की एटीएम शाखा में राहुल के फर्जीवाड़े की जानकारी मुंबई ब्रांच को इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस के आधार पर मिली थी. इसकी जानकारी बैंक के साथ ही पटना पुलिस के साथ शेयर की गई थी. 

  • 7/7

एसपी जितेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस इलाके एटीएम पर कई दिनों से निगरानी रख रही थी. इसके लिए सीसीटीवी फुटेज भी देखे गए और संदिग्धों पर नजर रखी गई. आरोपी राहुल को ऐसे ही रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया.