बुराड़ी: पुलिस को मिलीं 25 नोटबुक, खुलेगा मौत का असली राज!

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में 11 लोगों की मौत की पहेली अब तक पूरी तरह साफ नहीं हो पाई है. हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी गुत्थी को सुलझाने में लगी पुलिस को घर से करीब 25 नोटबुक मिले हैं.

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में हुई वारदात
मुकेश कुमार/अनुज मिश्रा
  • नई दिल्ली,
  • 03 जुलाई 2018,
  • अपडेटेड 11:22 PM IST

दिल्ली के बुराड़ी इलाके में 11 लोगों की मौत की पहेली अब तक पूरी तरह साफ नहीं हो पाई है. हत्या और आत्महत्या के बीच उलझी गुत्थी को सुलझाने में लगी पुलिस को घर से करीब 25 नोटबुक मिली हैं. इसमें डॉयरी, रजिस्टर, धार्मिक किताबें और बच्चों की किताबें शामिल हैं. पुलिस को उम्मीद है कि इनसे कुछ अहम सुराग मिल सकते हैं.

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम बुराड़ी के उस घर में पहुंची जहां 11 लोगों की मौत हुई थी. पूछताछ में परिजनों ने बताया कि घर में छोटे बेटे ललित की ही चलती थी. वह घर के छोटे बच्चों को पढ़ाया भी करता था. इस जानकारी के बाद क्राइम ब्रांच की टीम दोबारा मौके पर पहुंची. वहां से नोटबुक को बरामद किया.

पुलिस यह जानने की कोशिश कर रही है कि ललित मौत के कुछ दिन पहले से बच्चों को क्या पढ़ा रहा था? बच्चों ने किस तरह का नोट्स बनाया था? जाहिर है पूरी क्रिया यानी लटकने और आंख मुंह पर पट्टी बांधने की तैयारी काफी टाइम पहले से हो गई थी. क्राइम ब्रांच ने कई घंटे तक घर में जांच किया. चप्पे-चप्पे को खंगाला गया.

पुलिस जांच में पता चला कि ललित को उसके पिताजी पिछले 5 साल से नजर आते थे. यह बात घर के बाकी सदस्यों को पता थी. ललित के हर आदेश का घर के बाकी सदस्य अनुसरण भी किया करते थे. पुलिस अब ये पता करने की कोशिश में है कि कही पहले भी तो 11 लोगों ने परमात्मा से मिलने की ये खतरनाक कोशिश तो नहीं की थी.

बताते चलें कि मौत की ऐसी स्क्रिप्ट शायद ही इससे पहले कभी लिखी गई हो. स्क्रिप्ट में जो जो और जैसे जैसे लिखा गया, हर किसी के हिस्से में वैसे वैसे ही मौत आई. बेरोजगारी, बीमारी, भुखमरी, तंगी, दबाव, तनाव अमूमन ये ही वो वजह होती हैं, जिसकी वजह से लोग खुदकुशी करते हैं. मगर इस कहानी में मौत की वजह भी अजीब और मौत का तरीका भी अनोखा.

नोट्स में लिखा था, 'जब आप मोक्ष प्राप्ति के लिए हवन करोगे तो उसके बाद आप अपने कानों में रुई और मुंह और आंख पर कपड़ा बांधोगे, ताकि एक-दूसरे को देख ना सको और न ही चीख सुन सको. अंतिम समय में आखिरी इच्छा की पूर्ती के वक्त आसमान हिलेगा, धरती कांपेगी, उस वक़्त तुम घबराना मत. मंत्रों का जाप बढ़ा देना.

'जब पानी का रंग बदलेगा तब नीचे उतर जाना, एक दूसरे की नीचे उतरने में मदद करना. तुम मरोगे नहीं, बल्कि कुछ बड़ा हासिल करोगे. जब आप गले में फंदे डालकर क्रिया करोगे तो मैं आपको साक्षात दर्शन दूंगा और मैं आपको आकर बचा लूंगा. आपकी जो आत्मा है वो बाहर निकलेगी और फिर वापस आ जाएगी. तब आपको मोक्ष की प्राप्ति हो जाएगी.'

Read more!

RECOMMENDED