टाटा स्टील ने बनाया 20,144 करोड़ रुपये का इमरजेंसी फंड, पहली तिमाही में 4648 करोड़ का घाटा

टाटा स्टील ने किसी आर्थिक संकट से निपटने के लिए एक इमरजेंसी फंड तैयार कर लिया है. हालांकि कंपनी को जून तिमाही में 4,648 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है. टाटा स्टील के पास जनवरी से जून के दौरान अतिरिक्त नकदी में 43.6 फीसदी की बढ़त हुई है.

टाटा स्टील को हुआ भारी घाटा
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 14 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 1:00 PM IST

  • टाटा स्टील ने बनाया है 20,144 करोड़ का इमरजेंसी फंड
  • यह किसी आर्थिक संकट से निपटने में काम आएगा
  • जून तिमाही में कंपनी को हुआ है 4,648 करोड़ का घाटा

टाटा स्टील ने कोरोना संकट के बाद आने वाले आ​र्थिक संकट और ऐसे किसी आकस्मिक संकट के लिहाज से 20,144 करोड़ रुपये का एक इमरजेंसी फंड (Liquidity War-chest) तैयार कर लिया है. कंपनी को जून तिमाही में 4,648 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है.

गौरतलब है कि टाटा स्टील के पास जनवरी से जून के दौरान लिक्विडिटी बफर यानी अतिरिक्त नकदी में 43.6 फीसदी की बढ़त हुई है. कंपनी के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर और सीएफओ कौशिक चटर्जी ने कहा कि कंपनी इस अतिरिक्त नकदी को आगे चलकर जरूरत पड़ने पर काम में लगाएगी.

इसे भी पढ़ें: चमत्कारिक है पतंजलि की सफलता की कहानी, 8 हजार करोड़ से ज्यादा का कारोबार

आमदनी में कमी है घाटे की मुख्य वजह

टाटा स्टील को चालू वित्त वर्ष की जून में समाप्त इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 4,648.13 करोड़ रुपये का एकीकृत शुद्ध घाटा हुआ है. मुख्य रूप से आमदनी घटने की वजह से कंपनी घाटे में आ गई है. इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में कंपनी ने 714.03 करोड़ रुपये का नेट प्राॅफिट कमाया था. बीएसई को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि तिमाही के दौरान उसकी कुल आय घटकर 24,481.09 करोड़ रुपये रह गई, जो इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 36,198.21 करोड़ रुपये रही थी.

मार्च 2020 तक कंपनी के पास 17,745 करोड़ रुपये की नकदी थी. गौरतलब है कि टाटा स्टील भारत और यूरोप की एक प्रमुख स्टील उत्पादक कंपनी है. लोन के भुगतान और फिक्स्ड लागत जैसे जरूरी खर्चों के लिए कंपनी ने नकदी का भंडार बनाना शुरू किया है.

इसे भी पढ़ें: 7 रुपये का शेयर 2 साल में 800 रुपये का, क्या पेनी स्टॉक में लगाना चाहिए पैसा?

हो रहा कारोबार में सुधार

कंपनी के सीईओ एवं मैनेजिंग डायरेक्टर TV Narendran ने कहा कि अब धीरे-धीरे आर्थिक गतिविधियों में सुधार हो रहा है. उन्होंने बताया, 'भारत में हमने अपनी क्षमता का इस्तेमाल बढ़ाते हुए 90 फीसदी तक कर लिया है और जून महीने में कुल बिक्री पिछले वित्त वर्ष के मासिक औसत को हासिल कर चुकी है.'

Read more!

RECOMMENDED