एविएशन सेक्टर में मंदी के संकेत! यात्रियों की संख्या में मामूली इजाफा

इस साल सितंबर में तकरीबन 110.79 लाख घरेलू यात्रियों ने उड़ान भरी, जबकि ठीक एक साल पहले इसी सितंबर महीने में यात्रियों की संख्या 110.35 लाख थी.

हवाई यात्रियों की फाइल फोटो (ANI)
ऐश्वर्या पालीवाल
  • नई दिल्ली,
  • 17 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 10:41 PM IST

  • सितंबर में महज 1.18 फीसदी यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी
  • सितंबर में तकरीबन 110.79 लाख घरेलू यात्रियों ने उड़ान भरी

एविएशन सेक्टर में मंदी के संकेत हैं. सितंबर महीने में मात्र 1.18 प्रतिशत देसी हवाई यात्रियों की संख्या में इजाफा हुआ है. यह आंकड़ा नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने जारी किया है.

अगस्त महीने की बात करें तो ठीक एक साल पहले इसी महीने में घरेलू यात्री वृद्धि (डोमेस्टिक पैसेंजर ग्रोथ) की दर 3.87 प्रतिशत थी. इस साल सितंबर में तकरीबन 110.79 लाख घरेलू यात्रियों ने उड़ान भरी, जबकि ठीक एक साल पहले इसी सितंबर महीने में यात्रियों की संख्या 110.35 लाख थी.  

4-6 फीसदी तक घटा अनुमान

सितंबर के इस आंकड़े पर डीजीसीए के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, 'संख्या हैरान करने वाली है. आंकड़ा हमारे अनुमान से नीचे आ गया है, लगभग 4-6 फीसदी तक. हालांकि अच्छी बात ये है कि हमने जेट एअरवेज की मुश्किलों से पार पा लिया है और पिछले तीन महीने की नकारात्मक या सपाट वृद्धि दर के बावजूद पॉजिटिव ग्रोथ हासिल किया है.'     

सितंबर में देश की चार बड़ी एअरलाइंस-एअर इंडिया, गोएअर, एअरएशिया और विस्तारा के यात्रियों की संख्या अगस्त की तुलना में घटी है. डीजीसीए के अधिकारी ने कहा, 'जेट एअरवेज की कमी की भरपाई कर ली गई है और इस महीने में 616 से ज्यादा विमानों की उड़ान का अनुमान है. 31 दिसंबर तक फ्लीट में कुछ और विमान जुड़ेंगे. अगले साल के शुरू में दहाई आंकड़ों में यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी के अनुमान हैं.'

बाजार में इंडिगो अव्वल

एअर ट्रैफिक में इंडिगो सबसे आगे है और घरेलू यात्री बाजार में उसका हिस्सा 48.2 फीसदी है. यह आंकड़ा सितंबर महीने का है. अगस्त महीने में स्पाइस जेट का आंकड़ा 15.5 फीसदी था जो सितंबर में घटकर 14.7 फीसदी हो गया. एअर इंडिया, गोएअर, और विस्तारा का आंकड़ा क्रमशः 13, 11.5 और 6.3 प्रतिशत रहा. डीजीसीए के मुताबिक, इस साल सितंबर महीने में घरेलू एअरलाइंस को यात्रियों से जुड़ी 701 शिकायतें मिलीं. प्रति 10 हजार यात्रियों पर लगभग 0.61 फीसदी यात्रियों की शिकायतें प्राप्त हुई हैं.

Read more!

RECOMMENDED