अमेरिका में 10.6 लाख बैरल बढ़ा कच्चे तेल का भंडार, कीमतों में नरमी

अमेरिकी एजेंसी एनर्जी इन्फॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईएआई) की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, 13 सितंबर को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान अमेरिका में कच्चे तेल के भंडार में 10.6 लाख बैरल का इजाफा हुआ है.

कच्चे तेल की कीमतों में नरमी
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 19 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 9:30 AM IST

सऊदी अटैक से संकट के बीच अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार बढ़ने की खबर आई है. इससे कच्चे तेल की कीमतों में नरमी आई है. अमेरिकी एजेंसी एनर्जी इन्फॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन (ईएआई) की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, 13 सितंबर को समाप्त हुए सप्ताह के दौरान अमेरिका में कच्चे तेल के भंडार में 10.6 लाख बैरल का इजाफा हुआ है.

ईएआई की बुधवार को जारी रिपोर्ट के बाद अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम पर दबाव और बढ़ गया और अंतर्राष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों में गिरावट आ गई. भारतीय वायदा बाजार में भी कच्चे तेल के वायदे में दो फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई.

न्यूज एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक, मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर कच्चे तेल के सितंबर अनुबंध में बुधवार को रात नौ बजे पिछले सत्र के मुकाबले 86 रुपये यानी 2.03 फीसदी की कमजोरी के साथ 4,159 रुपये प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था.  

वहीं, अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार इंटरकॉन्ट‍िनेंटल एक्सचेंज (आईसीई) पर बुधवार को ब्रेंट क्रूड के नवंबर वायदे में 1.05 फीसदी की गिरावट के साथ 63.87 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था. अमेरिकी लाइट क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (डब्ल्यूटीआई) के नवंबर वायदे में 1.46 फीसदी की कमजोरी के साथ 58.24 डॉलर प्रति बैरल पर कारोबार चल रहा था.  

ईआईए की रिपोर्ट के अनुसार, कच्चे तेल के भंडार में बीते सप्ताह 10.58 लाख बैरल का इजाफा हुआ, जबकि गैसोलीन का भंडार 7.8 लाख बैरल बढ़ा.  

अमेरिका में कच्चे तेल का भंडार बढ़ने से फिलहाल तेल के दाम पर दबाव बढ़ गया है, लेकिन कमोडिटी बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि कीमतों में बहरहाल ज्यादा नरमी की संभावना कम है क्योंकि खाड़ी क्षेत्र में बढ़ते तनाव से तेल के भाव को सपोर्ट मिलेगा.

शनिवार को सऊदी अरब में अरामको के तेल प्रतिष्ठानों पर हूती विद्रोहियों के हमले के बाद सोमवार को कच्चे तेल के दाम में 28 साल बाद सबसे बड़ी एक दिनी तेजी आई थी.  

Read more!

RECOMMENDED