scorecardresearch
 

गोरखपुर: ऑनलाइन क्लास के लिए फोन नहीं, बाढ़ के बीच नाव से स्कूल जाती है ये छात्रा

संध्या सहानी गोरखपुर में रहती हैं. बाढ़ की वजह से 11वीं की छात्रा को नाव से स्कूल जाना पड़ता है, वह ऑनलाइन क्लास नहीं ले सकती क्योंकि स्मार्टफोन नहीं है.

नाव से स्कूल जा रहीं संध्या सहानी (फोटो-ANI) नाव से स्कूल जा रहीं संध्या सहानी (फोटो-ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • संध्या सहानी गोरखपुर में रहती हैं
  • बाढ़ की वजह से नाव से जाती हैं स्कूल

किसी भी काम को करने का जुनून हो तो कोई मुश्किल आपको रोक नहीं सकती है. गोरखपुर की संध्या सहानी ने इस कहावत को सच साबित किया है. संध्या को पढ़ने की लगन है. स्कूल तक जाने के लिए रास्ता नहीं है, ऑनलाइन क्लास के लिए उनके पास फोन भी नहीं है. बावजूद इसके वह जिस तरह अपनी पढ़ाई कर रही हैं, उसके सब कायल हो गए हैं. कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी इसकी तारीफ कर चुके हैं.

संध्या सहानी गोरखपुर में रहती हैं. 11वीं क्लास की छात्रा संध्या गोरखपुर के बहरामपुर में मौजूद अपने स्कूल जाने के लिए नाव का सहारा लेती हैं. वह खुद इस नाव को चलाकर स्कूल तक जाती हैं. बता दें कि कोरोना काल में स्कूल बंद रहे थे. अब यूपी और अन्य राज्यों में उनको धीरे-धीरे खोला जा रहा है, लेकिन छात्रों पर फिर भी ऑनलाइन क्लास लेने का ऑप्शन है. पर संध्या घर से पढ़ाई नहीं कर सकती, क्योंकि उनके पास फोन नहीं है.

संध्या सहानी ने कहा, 'मैं ऑनलाइन क्लास नहीं ले सकती, क्योंकि मेरे पास स्मार्टफोन नहीं है. जब स्कूल खुले तो हमारे क्षेत्र में बाढ़ आ गई. तब मैंने तय किया कि नाव से ही स्कूल जाऊंगी.'

राहुल गांधी ने की थी तारीफ

संध्या की फोटोज शिक्षक दिवस (5 सितम्बर) पर सामने आई थीं. तब राहुल गांधी ने संध्या की तस्वीरों को शेयर करते हुए लिखा था, ‘मुश्किल हालात, विफल प्रशासन और अनिश्चित भविष्य के बावजूद बच्ची ने साहस नहीं खोया. संध्या का साहस हमें बहुत कुछ सिखाता है.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें