scorecardresearch
 

दिल्ली: स्मॉग टावर पर बोले पर्यावरणविद, प्रदूषण कम करने का ये स्थायी समाधान नहीं

आजतक ने दिल्ली के स्मॉग टावर की नई पहल और इसकी व्यावहारिकता के बारे में जानने के लिए सरकार और अन्य निजी संगठनों, दोनों के विभिन्न पर्यावरणविदों से बात की. नए स्मॉग टॉवर और खराब वायु गुणवत्ता की समस्या को दूर करने के लिए संसाधनों का बेहतर उपयोग कैसे किया जा सकता है, इसके बारे में कई विरोधाभासी विचार मिले हैं.

स्मॉग टावर के प्रयोग पर अलग अलग राय (फाइल फोटो) स्मॉग टावर के प्रयोग पर अलग अलग राय (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कनॉट प्लेस में बाबा खड़ग सिंह मार्ग पर पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन
  • 'वायु प्रदूषण जैसी जटिल समस्या का स्थायी समाधान नहीं'
  • 'दिल्ली जैसे संसाधनों की कमी वाले शहर में खर्च का सौदा'

दिल्ली का प्रदूषण वर्षों से चिंता का विषय है, सरकारों और अधिकारियों ने इसको नियंत्रित करने के लिए कई प्रयास किए हैं. अक्टूबर आते ही वायु प्रदूषण शुरू हो जाता है, और यह सर्दी के मौसम के अंत तक जारी रहता है. इस सीजन से ठीक पहले, दिल्ली सरकार ने कनॉट प्लेस में बाबा खड़ग सिंह मार्ग पर अपने पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया, लेकिन पर्यावरणविदों का मानना है कि इस तरह की परियोजना वायु प्रदूषण जैसी जटिल समस्या का स्थायी समाधान मुहैया नहीं करा सकती है. इसके कई आयाम हैं और यह दिल्ली जैसे संसाधनों की कमी वाले शहर में खर्च का सौदा साबित हो सकता है.

हालांकि, ऐसे वक्त में दिल्ली सरकार स्मॉग टावर की सफल शुरुआत की उम्मीद कर रही है और फिर अगले दो साल के आंकड़ों पर नजर रखेगी. यदि प्रयोग सफल रहा तो अधिकारी इसी मॉडल को अन्य क्षेत्रों में भी लागू करेंग और राजधानी में ऐसे और टावर लगाने का काम करेंगे. इस बात पर बहस चल रही है कि आने वाले महीनों में प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार की प्राथमिकता क्या होनी चाहिए?

आजतक ने दिल्ली के स्मॉग टावर की नई पहल और इसकी व्यावहारिकता के बारे में जानने के लिए सरकार और अन्य निजी संगठनों, दोनों के विभिन्न पर्यावरणविदों से बात की. नए स्मॉग टॉवर और खराब वायु गुणवत्ता की समस्या को दूर करने के लिए संसाधनों का बेहतर उपयोग कैसे किया जा सकता है, इसके बारे में कई विरोधाभासी विचार मिले हैं.    

पर्यावरणविदों ने आलोचना की, सरकार ने कहा अंतिम परिणाम की प्रतीक्षा करें

दिल्ली सरकार द्वारा लगाए गए पहले स्मॉग टावर को एक खास क्षेत्र में प्रदूषण को नियंत्रित करने की नई पहलों में से एक के रूप में देखा जा रहा है, लेकिन अधिकांश पर्यावरण वैज्ञानिक जो इस समस्या पर वर्षों से काम कर रहे हैं, वे बहुत यकीन नहीं कर रहे हैं. विज्ञान और पर्यावरण केंद्र से जुड़ी रिसर्च एंड एडवोकेसी की कार्यकारी निदेश अनुमिता रॉय चौधरी ने इस नई पहल पर बहुत ही आलोचनात्मक टिप्पणी की है.

उन्होंने इंडिया टुडे को बताया, ‘’हमारे पास दुनियाभर से कोई आंकड़े नहीं है जहां स्मॉग टॉवर ने परिवेशी वायु को साफ करने में मदद की है. दुनिया भर में स्मॉग टावर नियामक कार्रवाई के तौर पर नहीं लगाए जा रहे हैं. चीन और डेनमार्क में हम जो जानते हैं वह अधिक निजी पहल है और इसका सरकारी नीति से कोई लेना-देना नहीं है. हमारे पास कोई पुख्ता आंकड़े नहीं है, जो  यह बताते हों कि यह हवा की गुणवत्ता में सुधार करता है. डेनमार्क में यह पार्क एक मनोरंजक उद्यम था, लेकिन हमारे पास इसका कोई पुख्ता डेटा नहीं है. अब यह दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (DPCC) और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) पर निर्भर है कि वह उचित परीक्षण करें और इसे मान्य करे और बताएं कि यह कितना प्रभावी है. लेकिन हम इसे बढ़ावा नहीं दे रहे हैं क्योंकि ये महंगे उपकरण हैं और इस पैसे को इस तरह का काम करने के बजाय स्रोत पर उत्सर्जन में कटौती करने के लिए खर्च किया जाना चाहिए.''

एक अन्य प्रख्यात पर्यावरण विद भावरीन कंधारी न केवल इस तरह के "बैंड-सहायता समाधान" के खिलाफ हैं, बल्कि उन्होंने पूर्वी दिल्ली के सांसद गौतम गंभीर द्वारा लगवाए जा रहे कुछ ऐसे टावरों पर भी काम किया है . भावरीन कहती हैं, “मैंने भारत के मुख्य न्यायाधीश ( CJI ) को प्रदूषण के मुद्दे के बारे में लिखा था. आंकड़े जगजाहिर होने चाहिए. यहां तक कि हम गौतम गंभीर द्वारा लगाए गए स्मॉग टॉवर के आंकड़ों की भी निगरानी कर रहे हैं . प्रारंभिक विश्लेषण से हमने पाया कि प्रदूषण पर शायद ही कोई प्रभाव पड़ता है और ये बिलकुल अप्रभावी हैं. पिछले 10 महीनों से, हम इन स्मॉग टावरों के डेटा की निगरानी कर रहे हैं और अगले कुछ दिनों में विवरण के साथ आएंगे.   
  
लेकिन इन स्मॉग टावरों को लेकर सरकार का नजरिया कुछ और है. डीपीसीसी के एक वरिष्ठ पर्यावरण वैज्ञानिक डॉ. अनवर अली खान, जो स्मॉग टॉवर परियोजना के प्रभारी हैं, पूरी तकनीक बताते हैं और कहते हैं कि दिल्ली को अंतिम परिणाम की प्रतीक्षा क्यों करनी चाहिए. खान बताते हैं, "हमने अब टावर स्थापित कर दिया है और अगले दो वर्षों में आईआईटी-दिल्ली और आईआईटी-बॉम्बे द्वारा प्रभाव मूल्यांकन अध्ययन किया जाएगा. हमने जो तकनीक अपनाई है वह मिनेसोटा विश्वविद्यालय द्वारा विकसित सीएफडी (कम्प्यूटेशनल फ्लूइड डायनेमिक्स) है. जिस तरह के विविक्त मैटेरियल को फिल्टर किया जाएगा वह 0.3 माइक्रोन तक का होगा. कणों को डबल निस्पंदन तकनीक के माध्यम से फंसाया जा सकता है. इस टावर में 8 सेंसर (चार दिशाओं से 2 प्रत्येक) लगाए जा रहे हैं उनमें से आधे पहले ही प्रवेश करेंगे और आधा गुणवत्ता को मापने के बाद स्वच्छ हवा जारी करेंगे, जो हवा की गुणवत्ता को मापने में होगा. निगरानी SCADA प्रणाली द्वारा की जाएगी और वास्तविक समय के आंकड़ों को वेबसाइट पर जारी किया जाएगा.      

और पढ़ें- दिल्ली: कनॉट प्लेस में देश के पहले स्मॉग टावर की शुरुआत, ऐसे कम होगा प्रदूषण
 
पहले स्मॉग टॉवर परियोजना की लागत लगभग 24 करोड़ रुपये है और इसके लिए उनके पास औचित्य भी है. वह बताते हैं, "यह एक नई विदेशी तकनीक है और इसलिए लागत अधिक है, लेकिन हमने इस स्मॉग टॉवर में विभिन्न आकार के प्रदूषकों को छानने के लिए 10 हजार फिल्टर का इस्तेमाल किया है. दूसरे, 6 मीटर ऊंची छतरी के साथ टावर की ऊंचाई लगभग 24 मीटर है ताकि टावर में वायुगतिकीय प्रवाह को बनाए रखा जा सके और प्रदूषित हवा को साफ हवा के साथ मिश्रित नहीं किया जा सके. हमने 40 बड़े पंखे भी लगाए हैं जो एक हजार क्यूबिक मीटर प्रति सेकेंड तक हवा की मात्रा को साफ कर सकते हैं. हवा के दबाव को ध्यान में रखते हुए फिल्टर भी नियमित रूप से बदले जाएंगे.

''हमने कभी यह दावा नहीं किया कि यह एक बहुत बड़े क्षेत्र की हवा को साफ करेगा, लेकिन इन टावरों के साथ, हम स्वच्छ हवा श्वास क्षेत्र/पार्क विकसित कर सकते हैं और हम ऐसे पार्कों को कायाकल्प केंद्र के रूप में योजना बना रहे हैं. यदि यह प्रयोग सफल होता है तो इसे छोटे स्तरों पर पार्कों जैसे अन्य क्षेत्रों में दोहराया जा सकता है."
 
सरकार को अपनी रणनीति बदलने की सलाह दे रहे पर्यावरण विशेषज्ञ

एक तरफ सरकार स्मॉग टावर जैसी परियोजनाओं पर खर्च को सही ठहरा रही है जो एक वर्ग किलोमीटर के आसपास हवा को साफ कर सकते हैं. पर्यावरणविदों का इसके समस्या के प्रति एक अलग दृष्टिकोण है. उनमें से अधिकांश का विचार है कि सरकार को प्रदूषण के स्रोत पर नियंत्रित करने के लिए और अधिक गंभीरता से काम करना चाहिए और इस तरह की परियोजनाओं के बजाय वहां दूसरे उपाय देखे जाने चाहिए.

अनुमिता रॉय चौधरी ने कहा, “दिल्ली के पास पहले से ही वाहनों, उद्योगों और अपशिष्ट प्रबंधन से लेकर एक व्यापक स्वच्छ वायु कार्य योजना है. कुछ चीजें हुई हैं लेकिन उन्हें और भी बहुत कुछ करने की जरूरत है, उदाहरण के लिए, हमें शहर में कचरा जलाने को पूरी तरह से खत्म करना होगा और ऐसा करने के लिए शहर में एक केंद्रीकृत पृथक कचरा संग्रह तंत्र होना चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि हमारे पास जीरो-लैंडफिल नीति होनी चाहिए. लैंडफिल साइटों पर कचरे का पुन: उपयोग किया जा रहा है ताकि उसमें आग न लगे. औद्योगिक क्षेत्रों में हालांकि उन्होंने स्वच्छ ईंधन का उपयोग करना शुरू कर दिया है लेकिन कोयले जैसे ईंधन को पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए. विशेष रूप से उन्हें शहर के छोटे और मध्यम उद्योग पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि ये अभी भी गंदे ईंधन का उपयोग कर रहे हैं. यह एक बड़ी चुनौती है और अगर आप इतना गंदा ईंधन जला रहे हैं तो प्रदूषण को कैसे नियंत्रित करेंगे.


 
प्रदूषण भी वायु प्रदूषण का एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है जो राजधानी में एक तिहाई से अधिक प्रदूषण बढ़ाता है. दिल्ली सरकार ने लक्ष्य रखा है कि 2024 तक कुल वाहनों में से 25 प्रतिशत इलेक्ट्रिक होना चाहिए, लेकिन अभी कुल वाहनों का केवल 1.3 प्रतिशत ही हुआ है. तीन साल में यहां से 25 फीसदी का लक्ष्य हासिल करना एक बड़ा काम होगा. सरकार को अधिक बसों के साथ बड़े पैमाने पर प्रयास करने होंगे और बस और मेट्रो का एकीकरण भी काफी महत्वपूर्ण है और यहां तक कि साइकिल चलाने के बुनियादी ढांचे को भी बढ़ाया जाना चाहिए. 

हालांकि दिल्ली सरकार ने प्रदूषण के  स्रोत को नियंत्रित करने के लिए कुछ परियोजनाएं शुरू की हैं, जिनमें औद्योगिक प्रदूषण से निपटना शामिल है. पीएनजी के स्वच्छ ईंधन को अनिवार्य कर दिया गया है, यहां तक कि रेस्तरां को कोयले के बजाय ग्रीन फ्यूल पर अपने तंदूर और स्टोव चलाने पड़ते हैं, धूल पर नियंत्रण छिड़काव के माध्यम से निर्माण स्थलों से होने वाले प्रदूषण को अनिवार्य कर दिया गया है. लेकिन फिर भी, एक उचित सतर्कता तंत्र के माध्यम से इन नीतियों को करना पर बड़ी चिंता है और यही कारण है कि सभी प्रयासों के बावजूद परिणाम जमीन पर नहीं दिख रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें