CWC 2019: शिखर धवन हुए बाहर तो क्या ऋषभ पंत पकड़ेंगे लंदन की फ्लाइट? BCCI ने कहा- तैयार रहो

बीसीसीआई ने हालांकि ऋषभ पंत के नाम का औपचारिक ऐलान नहीं किया है. उसे उम्मीद है कि धवन दो से तीन सप्ताह के अंदर चोट से उबर जाएंगे.

शिखर धवन (फाइल)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 12 जून 2019,
  • अपडेटेड 6:18 PM IST

युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत चोटिल सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के विकल्प के तौर इंग्लैंड जाएंगे, धवन हालांकि इंग्लैंड में ही रहेंगे और बीसीसीआई की मेडिकल टीम की देखरेख में रहेंगे. सूत्र ने आईएएनएस से कहा कि ऋषभ पंत को पहले ही कह दिया गया है कि वह इंग्लैंड जाने को तैयार रहें. बीसीसीआई ने हालांकि पंत के नाम का औपचारिक ऐलान नहीं किया है. उसे उम्मीद है कि धवन दो से तीन सप्ताह के अंदर चोट से उबर जाएंगे.

वर्ल्ड कप के लिए जब टीम चुनी गई थी तब पंत को चयनकर्ताओं ने नजरअंदाज किया था और दिनेश कार्तिक को चुना था. पंत को अब बोर्ड ने इंग्लैंड जाने के लिए तैयार रहने को कहा है. हालांकि 21 साल का यह खिलाड़ी शुरुआत में चयन के लिए उपलब्ध नहीं होगा क्योंकि धवन पर अंतिम फैसला लेने के बाद ही पंत को मौक मिलने की संभावना बनेगी.

धवन के अंगूठे में फ्रैक्चर है और इस कारण वह तीन सप्ताह के लिए मैदान से दूर हो सकते हैं. ऐसी आशंका जताई जा रही है कि वह न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के साथ होने वाले दो मैचों में नहीं खेल सकेंगे.

बीसीसीआई ने कहा है, 'धवन इस समय बीसीसीआई की मेडिकल टीम की देखरेख में हैं. टीम प्रबंधन ने फैसला किया है कि धवन इंग्लैंड में ही रहेंगे और उनकी चोट पर नजर रखी जाएगी. धवन को बाएं हाथ की तर्जनी और अंगूठे के बीच में चोट है.'

देखिए कौन कर सकता है धवन को रिप्लेस?

धवन ने रविवार को ऑस्ट्रेलिया के साथ हुए वर्ल्ड कप मुकाबले में शानदार 117 रन बनाए थे और मैन ऑफ द मैच चुने गए थे. भारत ने वह मैच 36 रनों से जीता था.

उसी मैच में बल्लेबाजी के दौरान आस्ट्रेलियाई गेंदबाज नाथन कूल्टर नाइल की एक गेंद धवन के अंगूठे पर लग गई थी. अपनी पारी के बाद धवन ड्रेसिंग रूम में ही बैठे रहे और बर्फ से चोट की सेकाई करते रहे. वह फील्डिंग के लिए मैदान पर नहीं उतर सके थे. रवींद्र जडेजा ने धवन की जगह पर फील्डिंग की थी.

पंत को जब टीम में नहीं चुना गया था तब कई लोगों ने इस पर निराशा जताई थी. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने धवन की चोट के बाद पंत को तुरंत टीम में शामिल करने की वकालत की थी.

Read more!

RECOMMENDED