Delhi Elections 2020: PM vs CM नहीं, केजरीवाल बनाम शाह हुआ दिल्ली चुनाव, शाहीन बाग पर आर-पार!

Delhi Elections 2020: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है. दिल्ली विधानसभा चुनाव में अब दोनों नेताओं के बीच आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला चल रहा है और इसमें शाहीन बाग का प्रदर्शन सबसे बड़े मुद्दे के रूप में उभरा है.

Delhi Elections 2020: दिल्ली चुनाव में अमित शाह बनाम अरविंद केजरीवाल
मोहित ग्रोवर
  • नई दिल्ली,
  • 28 जनवरी 2020,
  • अपडेटेड 11:04 AM IST

  • राजधानी दिल्ली में चरम पर चुनाव प्रसार
  • अमित शाह बनाम अरविंद केजरीवाल हुआ चुनाव
  • शाहीन बाग के मसले पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला

दिल्ली विधानसभा चुनाव की लड़ाई इस वक्त अपने चरम पर है और लगातार प्रचार-प्रसार जारी है. आम आदमी पार्टी एक बार फिर अरविंद केजरीवाल की अगुवाई में चुनाव लड़ रही है तो भारतीय जनता पार्टी ने कोई चेहरा ना उतार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम इस्तेमाल करने की ठानी है. लेकिन अभी तक दिल्ली में जो हालात दिख रहे हैं वह बिल्कुल अलग तस्वीर बयां करते हैं. पिछले कुछ दिनों के एक्शन से साफ है कि दिल्ली चुनाव की लड़ाई केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह बनाम अरविंद केजरीवाल के बीच हो गई है और इस सभी सबसे बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है शाहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन.

अमित शाह ने संभाला मोर्चा

भले ही अमित शाह अब भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष ना हों लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद वो अभी भी पार्टी का दूसरा बड़ा चेहरा हैं. पीएम मोदी ने अनाधिकृत कॉलोनी के मसले पर धन्यवाद रैली कर दिल्ली चुनाव का बिगुल तो फूंका था, लेकिन उसके बाद से उन्होंने कोई सभा नहीं की है.

इसी के बाद से अमित शाह ने मोर्चा संभाला है, पिछले एक हफ्ते में अमित शाह दिल्ली विधानसभा चुनाव में कई सभा कर चुके हैं. अमित शाह यहां सिर्फ बड़ी सभा ही नहीं कर रहे हैं लेकिन नुक्कड़ सभा, छोटी रैली और रोड शो भी कर रहे हैं. अभी तक अमित शाह रिठाला, बाबरपुर जैसी विधानसभा में रोड शो, रैली कर चुके हैं.

23 जनवरी के बाद से ही बीजेपी ने चुनावी रैलियों का दायरा बढ़ाया है. 23 से 27 जनवरी के बीच बीजेपी की ओर से 1454 रैली की जा चुकी हैं, 28 जनवरी को भी कुल 375 सभाएं होनी हैं. जिनमें केंद्रीय मंत्री से लेकर लोकल नेता मौजूद होंगे.

Delhi election 2020: BJP ने शाहीन बाग को बनाया एजेंडा, दिल्ली जीतने के लिए 200 सांसदों की उतारेगी फौज

पीएम की रैली का इंतजार

दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चेहरे पर चुनाव लड़ रही है लेकिन अभी तक पीएम ने सिर्फ एक रैली की है. मतदान आठ फरवरी को होना है ऐसे में आखिरी फेज़ में पीएम मोदी की एक-दो रैली करवाई जा सकती हैं. दिल्ली चुनाव से ऐन पहले केंद्र सरकार ने अनाधिकृत कॉलोनी को पक्का करने का फैसला किया, जिसे बीजेपी सबसे बड़ी उपलब्धि बता रही है. पीएम मोदी आने वाले दिनों में इन्हीं में से एक अनाधिकृत कॉलोनी में सभा कर सकते हैं.

अरविंद केजरीवाल बनाम अमित शाह

चुनावी सभाओं में अमित शाह सीधे तौर पर अरविंद केजरीवाल पर हमला कर रहे हैं. और इन हमलों का दिल्ली के सीएम जवाब दे रहे हैं. फिर चाहे वो दिल्ली में सीसीटीवी लगाने का मसला हो, फ्री वाई-फाई का मसला हो.

अमित शाह ने आरोप लगाया कि वो फोन लेकर घूम रहे हैं और कहीं भी दिल्ली में वाई-फाई नहीं मिल रहा है, जिसपर दिल्ली सीएम ने जवाब दिया कि हमने फोन की चार्जिंग के लिए फ्री बिजली का इंतजाम किया है. इसके अलावा भी अरविंद केजरीवाल की ओर से लगातार वीडियो जारी किए जा रहे हैं जिसमें वह अमित शाह के आरोपों का जवाब दे रहे हैं.

इसे पढ़ें... Delhi election 2020: क्या भाजपा ने शाहीन बाग को दिल्ली चुनाव का मुद्दा बना दिया?

शाहीन बाग बना चुनावी हथियार

नागरिकता संशोधन एक्ट के विरोध में शाहीन बाग में जारी विरोध प्रदर्शन अब दिल्ली चुनाव का अहम मसला बन गया है. भाजपा की ओर से शाहीन बाग प्रदर्शन को टुकड़े-टुकड़े गैंग, देश को तोड़ने वाला बताया जा रहा है. एक रैली में अमित शाह ने बयान दिया कि वोटर इतनी जोर से ईवीएम का बटन दबाएं कि करंट शाहीन बाग में लगे. अमित शाह के इस बयान पर विपक्ष आग बबूला है.

अमित शाह के आरोपों पर दिल्ली सीएम ने भी जवाब दिया. अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि बीजेपी जानबूझ कर शाहीन बाग का रास्ता नहीं खुलवाना चाह रही है, वो 8 तारीख तक ऐसा ही करेंगे और 9 तारीख को रास्ता खुलवा देंगे. अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह को चुनौती दी कि बतौर गृह मंत्री उन्हें वहां पर जाना चाहिए, इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मेरी पूरी हरी झंडी है ऐसे में बीजेपी एक घंटे में शाहीन बाग का रास्ता खुलवाए.

Read more!

RECOMMENDED