scorecardresearch
 

मथुराः कोरोना के चलते इस साल भी गोवर्धन में नहीं होगा पूर्णिमा मेला, सीमाएं भी सील

कोरोना संक्रमण की वजह से मथुरा के गोवर्धन में होने वाला मुड़िया पूनो यानी गुरु पूर्णिमा मेला इस साल भी निरस्त कर दिया है. इसके अलावा प्रशासन ने इस मौके पर गोवर्धन की सभी सीमाओं को सील रखने का फैसला भी लिया है.

5 दिन होता है पूर्णिमा मेला (फाइल फोटो) 5 दिन होता है पूर्णिमा मेला (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोविड के कारण पूर्णिमा मेला रद्द
  • पूर्णिमा मेले​​​​​​​ में परिक्रमा करने पहुंचते हैं करीब एक करोड़ लोग 

कोरोना संक्रमण (Coronavirus) की वजह से मथुरा के गोवर्धन में होने वाला पूर्णिमा मेला इस साल भी निरस्त कर दिया गया है. इसके अलावा प्रशासन ने गोवर्धन की सभी सीमाओं को सील रखने का फैसला भी लिया है. कोविड (Covid) के कारण मथुरा प्रशासन ने गोवर्धन में लगने वाले मुड़िया पूनो मेला जिसे गुरु पूर्णिमा मेला और पूर्णिमा मेला भी कहा जाता है, को निरस्त करने का फैसला लिया है. पिछले साल भी कोरोना के चलते इस मेले को रद्द कर दिया गया था. 

मथुरा के डीएम और एसएसपी से मिली जानकारी के अनुसार मथुरा और गोवर्धन की सीमाओं को भी 20 से 24 जुलाई तक सील करने का फैसला लिया गया है, ताकि लोग दूसरी जगहों से यहां न आ सकें. इसके साथ ही प्रशासन ने लोगों से मेले में न जाने की अपील भी की है.

पूर्णिमा मेले में परिक्रमा करने पहुंचते हैं करीब एक करोड़ लोग 

उत्तर प्रदेश सरकार के इस राजकीय मेला में 5 दिन के अंदर करीब एक करोड़ श्रद्धालु गोवर्धन महाराज की परिक्रमा लगाने आते हैं. कोरोना वायरस को देखते हुए इस बार भी गुरु पूर्णिमा मेला रद्द करने का फैसला किया गया है क्योंकि इस परिक्रमा में ना तो सोशल डिस्टेंसिंग हो पाएगी और श्रद्धालुओं की भीड़ की वजह से संक्रमण फैलने का खतरा भी ज्यादा रहेगा.

हर साल आषाढ़ शुक्ल पक्ष माह की पूर्णिमा को गोवर्धन में गुरु पूर्णिमा मेले का आयोजन किया जाता है. लेकिन पिछले दो साल से कोरोना की वजह से मेले का आयोजन नहीं हो रहा है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें