scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: बिहार के मंत्री ने हैदराबाद के फ्लाईओवर की फोटो को बताया बिहार सरकार का ‘गुड वर्क’

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि सुरेश कुमार शर्मा ने फ्लाईओवर की जो फोटो शेयर की है, वह ​बिहार की नहीं बल्कि हैदराबाद की है.

मुजफ्फरपुर की नहीं हैं ये सड़कें मुजफ्फरपुर की नहीं हैं ये सड़कें

चुनाव की गहमागहमी के बीच बिहार के नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने जगमगाती स्ट्रीट लाइटों वाले एक फ्लाईओवर की फोटो शेयर की, जिसमें लिखा है, “मुजफ्फरनगर स्ट्रीट लाइट योजना...जगमगा रही हैं मुजफ्फरनगर की सड़कें! मुजफ्फरपुर में कुल 17554 स्ट्रीट लाइट अधिष्ठापित किए जा चुके हैं.”

इस फोटो के साथ सुरेश कुमार शर्मा ने कैप्शन लिखा, “काम किया है, काम करेंगे, मुजफ्फरपुर का विकास करेंगे.” यानी, यह बताने की कोशिश की है कि स्ट्रीट लाइटों से रोशन चकाचक फ्लाईओवर की फोटो बिहार सरकार के अच्छे काम का नमूना है.

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.  
 
इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि सुरेश कुमार शर्मा ने फ्लाईओवर की जो फोटो शेयर की है, वह ​बिहार की नहीं बल्कि हैदराबाद की है.

पोस्ट पर यकीन करते हुए बहुत सारे लोग फेसबुक और ट्विटर पर इसे शेयर कर रहे हैं.

कुछ लोगों ने सुरेश कुमार शर्मा के पोस्ट पर कमेंट करते हुए यह भी लिखा है कि यह फ्लाईओवर बिहार में नहीं है.  
 
दावे की पड़ताल

हमने पाया कि स्ट्रीट लाइट्स से जगमग ​फ्लाईओवर की जिस तस्वीर को शेयर करके सुरेश कुमार शर्मा ने बिहार सरकार की पीठ थपथपाई है, वह दरअसल हैदराबाद स्थित बैरामालगुडा जंक्शन के आरएचएस फ्लाईओवर की है.

फोटो को रिवर्स सर्च करने पर ये फोटो हमें ‘द न्यूज मिनट’ वेबसाइट की एक रिपोर्ट में मिली, जो 10 अगस्त 2020 को छपी है.

रिपोर्ट के अनुसार, 10 अगस्त 2020 को तेलंगाना सरकार के मंत्री केटी रामा राव (केटीआर) ने आरएचएस फ्लाईओवर का उद्घाटन किया था जिसके बाद उसे आम जनता के लिए खोल दिया गया था.

हमें केटीआर के 9 अगस्त 2020 के एक ट्वीट में भी ये फोटो मिली जिसे सुरेश कुमार शर्मा ने शेयर किया है.

हमने पाया कि केटीआर ने आरएचएस फ्लाईओवर की तीन अन्य तस्वीरें भी शेयर की हैं. उनमें से एक तस्वीर में आरएचएस फ्लाईओवर के पास कई खंडों वाली एक निर्माणाधीन इमारत नजर आ रही है. इस जगह को हमने गूगल अर्थ पर ढूंढ़ा, तो हमें यहां की एक पुरानी फोटो मिली. गूगल अर्थ की इस फोटो में भी निर्माणाधीन इमारत का मूल ढांचा देखा जा सकता है.

केटीआर ने निर्माणाधीन इमारत वाली आरएचएस फ्लाईओवर की जो फोटो शेयर की थी, उसकी तुलना हमने सुरेश कुमार शर्मा द्वारा शेयर की गई फ्लाईओवर की फोटो से की. हमने पाया कि सुरेश कुमार शर्मा द्वारा शेयर की गई फोटो में भी उसी निर्माणाधीन इमारत के कुछ ऊपरी खंड नजर आ रहे हैं.

‘दैनिक जागरण’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनावों के लिए मुजफ्फरनगर विधानसभा सीट से सुरेश कुमार शर्मा को उम्मीदवार बनाया है.

कुल मिलाकर बात साफ है कि जिस फोटो को सुरेश कुमार शर्मा ने मुजफ्फरपुर, बिहार का बताते हुए शेयर किया है, वह हैदराबाद स्थित बैरामालगुडा जंक्शन के आरएचएस फ्लाईओवर की है.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

स्ट्रीट लाइट्स से जगमग ​फ्लाईओवर की एक तस्वीर जिसे बिहार सरकार के मंत्री सुरेश कुमार शर्मा ने मुजफ्फरपुर में हुआ विकास बताकर शेयर किया है.

निष्कर्ष

फ्लाईओवर की ये तस्वीर मुजफ्फरपुर की नहीं, बल्कि हैदराबाद के एक फ्लाईओवर की है. तेलंगाना सरकार के मंत्री केटी रामा राव ने 10 अगस्त, 2020 को इसका उद्घाटन किया था.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें