आईएमए ज्वेल्स धोखाधड़ी: कर्नाटक सरकार ने जांच के लिए SIT का किया गठन

कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने आई मॉनेटरी एडवाइजरी ज्वेल्स मामले में एसआईटी जांच के आदेश दिए हैं. 11 सदस्यीय इस एसआईटी की अगुवाई डीआईजी रविकांत गौड़ा करेंगे.

आई मॉनेटरी एडवाइजरी ज्वेल्स (ANI)
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 12 जून 2019,
  • अपडेटेड 1:47 PM IST

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने आई मॉनेटरी एडवाइजरी ज्वेल्स मामले में एसआईटी जांच के आदेश दिए हैं. 11 सदस्यीय इस एसआईटी की अगुवाई डीआईजी रविकांत गौड़ा करेंगे. इससे पहले एक ऑडियो सामने आया था, जिसमें कथित संस्थापक और प्रबंध निदेशक मोहम्मद मंसूर खान कह रहे थे कि वह भ्रष्टाचार से ऊब चुका है और खुदकुशी करने जा रहा है.

आई मॉनेटरी एडवायजरी ज्वेल्स के मालिक पर लोगों के करोड़ों रुपए हड़पने का आरोप है. बाद में वह फरार भी हो गया जिसकी तेजी से तलाशी चल रही है. इस कंपनी के प्रबंध निदेशक मंसूर खान का एक कथित ऑडियो क्लिप वायरल हुआ था जिसमें वे खुदकुशी करने की बात कह रहे थे. इस घटना के बाद निवेशक सकते में आ गए हैं. कर्नाटक सरकार ने इसे गंभीरता से लेते हुए जांच का निर्देश दिया है.

पुलिस आईएमए ज्वेल्स के मालिक मंसूर खान की तलाशी में मुस्तैदी से लगी हुई है. मंसूर खान ने अपनी कंपनी को लिमिटेड कंपनी बताते हुए लोगों से निवेश कराया और यह भी कहा कि उन्हें इसका शेयर दिया जाएगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इस कंपनी में सोने में ट्रेड होने की बात का पता चला है. 

मुख्यमंत्री कुमारस्वामी के साथ प्रदेश के गृह मंत्री एमबी पाटिल भी इस मामले पर गंभीरता से नजर रखे हुए हैं. सरकार के निर्देश पर मामले की जांच केंद्रीय अपराध शाखा (सीसीबी) को सौंपी गई है. मुख्यमंत्री कह चुके हैं कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा और उन्हें कड़ी सजा दी जाएगी.

Read more!

RECOMMENDED