कांग्रेस बोली- मोदी सरकार सब बेच रही है, नेहरू ने रखी थी आत्मनिर्भर भारत की नींव

स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी के संबोधन के बाद कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि क्या सरकार लोकतंत्र में विश्वास करती है? इसके बारे में सोचने की जरूरत है.

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 15 अगस्त 2020,
  • अपडेटेड 2:24 PM IST

  • कांग्रेस बोली-नेहरू ने आत्मनिर्भर भारत की स्थापना की
  • इस सरकार ने सब कुछ बेच दिया-रणदीप सिंह सुरजेवाला

स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संबोधन को लेकर कांग्रेस ने निशाना साधा है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि क्या सरकार लोकतंत्र में विश्वास करती है. हमें इस बारे में सोचने की जरूरत है. आत्मनिर्भर भारत की स्थापना पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने की थी.

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि क्या सरकार लोकतंत्र में विश्वास करती है? इसके बारे में सोचने की जरूरत है. पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने आत्मनिर्भर भारत की स्थापना की थी. लेकिन इस सरकार ने सब कुछ बेच दिया.

ये पढ़ें- लाल किले की प्राचीर से सातवीं बार पीएम मोदी का संबोधन, जानें बड़ी बातें

असल में, 74वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने लाल किले की प्राचीर से आत्मनिर्भर भारत का एक खाका पेश किया. मोदी ने कहा कि सिर्फ कुछ महीने पहले तक एन-95 मास्क, पीपीई किट, वेंटिलेटर ये सब हम विदेशों से मंगाते थे. आज इन सभी चीजों को लेकर में भारत न सिर्फ अपनी जरूरतें खुद पूरी कर रहा है, बल्कि दूसरे देशों की मदद के लिए भी आगे आया है.

ये भी पढ़ें-लाल किले से चीन-पाक पर बोले पीएम मोदी- जिसने भी आंख दिखाई, माकूल जवाब दिया

प्रधानमंत्री ने कहा, एक समय था, जब देश में हमारी कृषि व्यवस्था बेहद पिछड़ी हुई थी. तब सबसे बड़ी चिंता थी कि देशवासियों का पेट कैसे भरें. आज जब हम सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों का पेट भर सकते हैं. उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत का मतलब सिर्फ आयात कम करना ही नहीं बल्कि अपनी क्षमताओं, अपनी क्रिएटिविटी, अपनी स्किल्स को भी बढ़ाना है.

ये भी पढ़ें-लड़कियों की शादी की उम्र की समीक्षा कर रही सरकार, PM मोदी बोले- जल्द लेंगे फैसला

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कौन सोच सकता था कि कभी देश में गरीबों के जनधन खातों में हजारों-लाखों करोड़ रुपये सीधे ट्रांसफर हो पाएंगे, कौन सोच सकता था कि किसानों की भलाई के लिए एपीएमसी अधिनियम में इतने बड़े बदलाव हो जाएंगे. वन नेशन, वन टैक्स, इंसॉल्वेंसी और बैंकरप्सी कोड, बैंकों का मर्जर, आज देश की सच्चाई है.

Read more!

RECOMMENDED