राजस्थान: मेव समाज करेगा गौ तस्करों का विरोध, लोगों से करेंगे अपील

जिला मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद ने कहा, अलवर जिले के एक-एक व्यक्ति से अपील करता हूं कि जो गौ तस्करी करता है और इसमें लिप्त है उसका पूरी तरह से विरोध करें. हरियाणा के मेवात के लोगों से कहना चाहता हूं कि मेहरबानी करके वहां के लोग गौ तस्करी पर लगाम लगाएं.

प्रतीकात्मक तस्वीर
शरत कुमार/रणविजय सिंह
  • अलवर,
  • 10 दिसंबर 2017,
  • अपडेटेड 1:23 AM IST

राजस्थान के अलवर जिले में गौ तस्करी के मामले आए दिन सामने आते रहते हैं. अभी हाल ही में गो तस्कारों और पुलिस के बीच मुठभेड़ में एक गौ तस्कर की मौत हो गई थी. गौ तस्करी की वजह से क्षेत्र में माहौल ख़राब हो रहा, इसलिए अलवर जिला में मुस्लिम बहुल मेव पचायतों ने गौ तस्करी से जुड़े अपराधियों का विरोध करने का आह्वान किया है. साथ ही अलवर जिले से सटे हरियाणा के गांवों में जाकर गौ तस्करी रोकने के लिए बात भी करेंगे.  

जिला मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद ने कहा, अलवर जिले के एक-एक व्यक्ति से अपील करता हूं कि जो गौ तस्करी करता है और इसमें लिप्त है उसका पूरी तरह से विरोध करें. हरियाणा के मेवात के लोगों से कहना चाहता हूं कि मेहरबानी करके वहां के लोग गौ तस्करी पर लगाम लगाएं. हम लोग (मेव समाज) गो तस्करी की घटनाओं से शर्मिंदा हैं. अगर गौ तस्करी की घटनाएं नहीं रुकती हैं तो अलवर जिले की मेव पंचायत हरियाणा में गांव-गांव जाकर आह्वान करेंगे कि हरियाणा के लोग अलवर में गौ तस्करी करेंगे तो हम उनका विरोध करेंगे.  

उन्होंने कहा की अलवर जिले में मेव समाज के लोग किसी भी प्रकार की दहशत में नहीं हैं. हमें अपनी बात रखने का हक है, हम अपनी बात रख रहे हैं. कोई यह कहता है कि मेव समाज दहशत में है या डरा हुआ है तो हम उसकी बात का खंडन करते हैं.  

बता दें, अलवर शहर के जनता कॉलोनी में पुलिस मुठभेड़ में मारे गए गौ तस्कर तालीम खान का शनिवार को (तीसरे दिन) पुलिस ने राजीव गांधी समान्य अस्पताल में मेडिकल बोर्ड से पोस्टमॉर्टम करवाया. इसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया. परिजन शव को लेकर मृतक के हरियाणा में पैतृक गांव सालाहेड़ी नूह मेवात के लिए रवाना हो गए.  

डिप्टी एसपी अलवर की और से पोस्टमॉर्टम के लिए तहरीर दी गई थी, जिसके बाद चार डाक्टरों की टीम ने पोस्टमॉर्टम किया. डाक्टरों को परीक्षण के दौरान मृतक के गर्दन से एक गोली बरमाद हुई. इसके अलावा मृतक के शरीर में 4 अन्य जगह निशान मिले हैं, उन जगह का टेस्ट के लिए सैम्पल लिए गए हैं. परिक्षण के बाद पाया गया है कि तालीम की मोत गोली लगने से हुई है.

पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश ने बताया कि मृतक तालीम के परिजन और मेव समाज के कुछ लोग उनसे मिले थे. वे सभी मुआवजे की मांग कर रहे थे, लेकिन आपराधियो को किसी भी प्रकार का मुआवजा नहीं दिया जाता है.

मेव पंचायत के संरक्षक शेर मोहम्मद ने कहा ने पोस्टमॉर्टम के बाद कहा, पुलिस ने यह एनकाउंटर किया है, लेकिन हमारा कहना है कि पुलिस को सीधे गोली मारने के बजाय दूसरे तरीके से रोकना चाहिए था. गाड़ी के टायर में गोली मार कर भी रोक सकती थी. यह लड़का इनोसेंट था और इसके परिवार के लोग भी अपराध से जुड़े नहीं थे. लेकिन हो सकता है अन्य लोग जो उसके साथ थे उनकी साजिश का शिकार हुआ हो. वे लोग बड़े क्रि‍मि‍नल भी हो सकते हैं. ये पुलिस जांच करे. इसकी जांच ईमानदारी से होनी चाहिए. 

Read more!

RECOMMENDED