जॉन अब्राहम की बाटला हाउस फिल्म से एक बार फिर सिहर गया है संजरपुर!

जब भी कहीं कोई आतंकी वारदात होती है, इस गांव में एक अजीब सी हलचल होती है, एक डर पसर जाता है, पुराने जख्म हरे होते हैं और एक उदासी साफ़ महसूस होती है.

बाटला हाउस पोस्टर
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 31 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 12:44 PM IST

आजमगढ़ का संजरपुर यूपी का एक ऐसा गांव है जहां के बाशिंदे पिछले कई सालों से संदेहभरे सवालों का जवाब देते-देते लगभग थक चुके हैं. मगर सवाल हैं कि उनका पीछा छोड़ने को तैयार ही नहीं. और इन सवालों का असर ये रहा है कि यहां के बाशिंदे जहां भी जाते हैं इलाके का नाम बताने भर से संदेह में, हाशिए पर या फिर मौके खो देने से दो चार होते रहते हैं. दरअसल, कुछ साल पहले इस गांव पर 'आतंक की फैक्ट्री' और आजमगढ़ पर 'आतंक का गढ़' होने का जो टैग लगा है वो अबतक छूट नहीं पाया है.

जब भी कहीं कोई आतंकी वारदात होती है, इस गांव में एक अजीब सी हलचल होती है, एक डर पसर जाता है, पुराने जख्म हरे होते हैं और एक उदासी साफ़ महसूस होती है. फिलहाल कहीं ऐसी कोई वारदात तो नहीं हुई है, मगर एक फिल्म आने की वजह से गांव में लगभग वैसा ही माहौल दिख रहा है जैसा कि किसी वारदात या घटना के बाद यहां महसूस होता है.

दरअसल, अगस्त में स्वतंत्रता दिवस पर जॉन अब्राहम की फिल्म बाटला हाउस रिलीज हो रही है. बाटला हाउस की रिलीज से गांव के लोग परेशान हैं. परेशानी की वजह साफ है. बाटला हाउस फिल्म दिल्ली के जामिया नगर में हुए उस चर्चित एनकाउंटर पर आधारित है, जिसमें संजरपुर के दो लड़के मोहम्मद आतिफ और साजिद अमीन मारे गए थे. एजेंसियों ने दोनों को इंडियन मुजाहिदीन का मेंबर बताया था. 2008 में ये एनकाउंटर दिल्ली में हुआ था.

क्या है इस फिल्म में?

गांववालों के मुताबिक, बाटला हाउस एनकाउंटर के बाद आतंक के जो सवाल निकले उसने इस गांव की फिजा ही बदल दी. जांच एजेंसियों ने बाटला हाउस से पहले यूपी में सीरियल कचहरी ब्लास्ट (बनारस, फैजाबाद और लखनऊ) में भी गांव का कनेक्शन माना था. पर बाटला हाउस के बाद जिस तरह का माहौल बना उसने इस गांव को आतंक की फैक्ट्री का टैग दे दिया. बाटला हाउस के जिन का रहस्य तो आज तक नहीं सुलझा, मगर इसने गांव का सुकून पूरी तरह से बर्बाद कर दिया है. अब लोगों को एक बार फिर ये 'जिन' फिल्म में दिख रहा है. फिल्म में एनकाउंटर ऑपरेशन में शामिल एक ऑफिसर की कहानी को दिखाया गया है. जॉन अब्राहम ने मुख्य भूमिका निभाई है.

यहां के लोगों का कहना है फिल्म के आने के बाद इस गांव को लेकर देशभर में वैसा ही माहौल बनेगा, जैसा पिछले कुछ सालों में हमने देखा और झेला है. रिहाई मंच के अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शुऐब ने कहा, "दिल्ली क्राइम ब्रांच के एनकाउंटर में मारे गए दो लड़कों और कुछ लोगों के खिलाफ मुकदमा हुआ है. मुकदमे के सह अभियुक्त मोहम्मद आरिज के विरुद्ध दिल्ली न्यायालय में परीक्षण विचाराधीन है. साक्षियों का बयान अंकित किया जा रहा है. इसी दौरान बाटला हाउस फिल्म का रिलीज़ होना न्याय के विरुद्ध है."

क्यों हो रहा है विरोध?

यहां के गांववाले और कुछ सामजिक कार्यकर्ता तो बाटला हाउस एनकाउंटर की तरह ही जॉन अब्राहम की फिल्म को भी फर्जी बता रहे हैं. गांववालों का कहना है कि इस फिल्म के बहाने एक जिले, एक गांव और एक समुदाय को राष्ट्र विरोधी साबित करने की कोशिश की जा रही है. बाटला हाउस पर बैन लगाने की मांग करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता मसीहुद्दीन संजरी ने कहा, "कई मामलों में गांव और जिले के दर्जनों लड़के जेल में हैं. तमाम मुकदमों की सुनवाई अंतिम दौर में है. ऐसे में फिल्म की रिलीज से मुकदमों के प्रभावित होने की आशंका है." संजरी ने कहा, "फिल्म का ट्रेलर देखकर उन संदेहों को बल मिलता कि जांच एजेंसियों के पक्ष को फिल्म में न्योयोचित करार देने की कोशिश है." बताते चलें कि रिहाई मंच एक संगठन है जो यूपी समेत देशभर में आतंक के नाम पर मुस्लिम लड़कों के हक़ में आवाज उठाता है.   

क्या रिलीज होनी चाहिए फिल्म?

उधर, शोएब ने आशंका जताई कि "मुकदमे से जुड़े साक्षी या पीठासीन अधिकारी अगर ये फिल्म देखेंगे तो वो पूर्वाग्रह से ग्रसित हो सकते हैं. निष्पक्ष न्याय बाधित होगा. इसलिए मुकदमे के विचाराधीन रहने तक बाटला हाऊस को रिलीज नहीं होने देना चाहिए." इस बीच यह आरोप भी लगाया जा रहा है कि फिल्म एकतरफा और पूरी तरह से जांच एजेंसियों की कहानी पर आधारित है. क्योंकि निर्माताओं ने एनकाउंटर या धमाकों के आरोपियों और उनके परिजनों का पक्ष जानने का कोई प्रयास ही नहीं किया. ट्रेलर के कुछ सीन्स और संवाद पर भी आपत्ति जताई जा रही है.

वैसे सबसे विवादित एनकाउंटर पर बनी फिल्म को देखना दिलचस्प होगा कि इसमें तमाम पक्षों को किस तरह से दर्शाया गया है.

Read more!

RECOMMENDED