ट्यूशन टीचर पर आया गुस्सा तो बच्चे ने कर दी चाकू घोंप कर हत्या

मुंबई के शिवाजीनगर में एक नाबालिग ने गुस्से में आकर अपनी ट्यूशन टीचर की चाकू घोंप कर हत्या कर दी. बच्चे की मां और उसकी ट्यूशन टीचर के बीच की कहा सुनी हो गई थी. इससे बच्चे को इतना गुस्सा आ गया कि उसने टीचर को चाकू घोंप दिया और उसकी मौत हो गई.

टीचर की पहचान आयशा असलम हुसिये के रूप में हुई है
सौरभ वक्तान‍िया
  • मुंबई,
  • 18 सितंबर 2019,
  • अपडेटेड 1:03 AM IST

  • ट्यूशन टीचर की पहचान आयशा असलम हुसिये के रूप में हुई है
  • नाबालिग के मुताबिक आयशा ने उसकी मां के साथ अभद्रता की थी

मुंबई के शिवाजीनगर में एक नाबालिग ने गुस्से में आकर अपनी ट्यूशन टीचर की चाकू घोंप कर हत्या कर दी. बच्चे की मां और उसकी ट्यूशन टीचर के बीच की कहा सुनी हो गई थी. इससे बच्चे को इतना गुस्सा आ गया कि उसने टीचर को चाकू घोंप दिया और उसकी मौत हो गई. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है. घटना मंगलवार सुबह की है.

पुलिस ने बताया कि बच्चे की उम्र 11 साल है. टीचर की पहचान आयशा असलम हुसिये (30) के रूप में हुई है. बच्चे की मां और उसकी ट्यूशन आपस में दोस्त भी थीं और नाबालिक भी टीचर को कुछ सालों से जानता था.

पुलिस जांच में सामने आया है कि आयशा और बच्चे की मां दोनों आपस में अच्छी दोस्त थीं. नाबालिग ने पुलिस को बताया कि आयशा उसकी मां के साथ अभद्रता कर रही थी जिसके चलते उसे गुस्से आ गया. पूछताछ के दौरान बच्चे ने बताया कि उसकी मां शालीनता से पेश आ रही थी लेकिन आयशा लगातार उनके साथ अभद्र व्यवहार कर रही थी. इससे मजबूर होकर उसने यह कदम उठाया. पुलिस ने आईपीसी की धारा 302 के तहत केस दर्ज कर लिया है.

एक पुलिस अधिकारी ने ​बताया, "शुरुआती जांच में पता चला है कि हत्या के पीछे का कारण पैसे को लेकर टीचर और बच्चे की मां के बीच हुई कहा सुनी है. नाबालिग ने बताया कि उसकी मां ने आयशा से घर के सामान खरीदने के लिए कुछ पैसे उधार मांगे थे ​लेकिन उसने पैसे देने से मना कर दिया. वे दोनों कुछ सालों से एक दूसरे की अच्छी दोस्त भी थीं. आयशा के पैसे देने से मना करने पर दोनों में कहा सुनी हुई और मामला काफी बिगड़ गया."

बच्चा वहां पर मौजूद था. अपनी मां का अपमान होते देखकर उसको गुस्सा आ गया. वह किचन से चाकू उठाकर लाया और टीचर आयशा पर कई वार किए. चाकू लगने के बाद आयशा गिर पड़ी और मौके पर ही उसकी मौत हो गई. सूचना पर पहुंची पुलिस ने बच्चे को हिरासत में लिया और फिर उससे पूछताछ की गई. आयशा अपने पति से अलगाव होने के बाद गोवंडी में अकेली रह रही थी. वह पिछले पांच सालों से बच्चों को घर जाकर ट्यूशन देने का काम करती थी.

Read more!

RECOMMENDED