एक मुठभेड़, दो राज्य और दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े तीन बदमाश

दिल्ली की सड़कों पर सप्रेम गाड़ी रुकवा सीने पर पिस्टल सटा लूट की वारदात को अंजाम देने वाले जावेद उर्फ जैदी को छह दिन की रेड के बाद गुजरात के सूरत से गिरफ्तार कर लिया. वहीं स्पेशल सेल ने विकासपुरी इलाके से मुठभेड़ के बाद दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया.

सूरत से गिरफ्तार जावेद उर्फ जैदी (फोटोः तनसीम हैदर)
अरविंद ओझा/तनसीम हैदर
  • नई दिल्ली,
  • 14 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 11:23 AM IST

बढ़ती आपराधिक घटनाओं के कारण चौतरफा आलोचना झेल रही दिल्ली पुलिस ने शनिवार को दिल्ली और गुजरात से तीन बदमाशों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की. दिल्ली की सड़कों पर सप्रेम गाड़ी रुकवा सीने पर पिस्टल सटा लूट की वारदात को अंजाम देने वाले जावेद उर्फ जैदी को छह दिन की रेड के बाद गुजरात के सूरत से गिरफ्तार कर लिया. वहीं स्पेशल सेल ने विकासपुरी इलाके से मुठभेड़ के बाद दो बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया.

जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को सूचना मिली कि कुख्यात सूर्या गैंग के दो बदमाश विकासपूरी इलाके में आने वाले हैं. सूचना के आधार पर सेल की टीम ने जाल बिछाया. विकासपुरी गंदे नाले के पास जब पुलिस को एक सफेद रंग की कार आती दिखी तो पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन कार चालक बदमाशों ने फायरिंग शुरू कर दी.

पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की. जिसमे दो बदमाशों को पैर में  गोली लगी. स्पेशल सेल के मुताबिक बदमाश दीपक और राहुल उर्फ मक्खी को पैर में तीन गोली मारने के बाद विकासपुरी से पकड़ा गया. इस दौरान गोपाल को दो और इंस्पेक्टर संजीव को तीन गोली बीपी जैकेट पर लगी. पुलिस के मुताबिक राहुल पर भी 50 हज़ार का इनाम था. बताया जा रहा है कि सूर्या वेस्ट दिल्ली और बाहरी दिल्ली में आतंक का पर्याय बन चुका है.

दूसरी तरफ आउटर रिंग रोड और इनर रिंग रोड पर आदर पूर्वक गाड़ी रुकवा पिस्टल के बल पर दिन-दहाड़े लूटपाट करने वाले गैंग के मास्टर माइंड जावेद उर्फ जैदी को वेस्ट डिस्ट्रिक्ट के स्पेशल स्टाफ की पुलिस टीम ने सूरत से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार वांछित बदमाश जावेद उर्फ जैदी की निशानदेही पर वारदात में इस्तेमाल की जाने वाली दो स्कूटी और गहने बरामद किए गए हैं.

पुलिस ने बताया कि जावेद तीन साथियों के साथ मिलकर इस तरह की वारदात को अंजाम देता था. यह लोग स्कूटी पर चलते और भरी दोपहर आउटर रिंग रोड और इनर रिंग रोड पर टारगेट को तलाशते. जैसे ही उन्हें टारगेट समझ में आ जाता, जावेद सप्रेम हाथ जोड़कर नमस्ते करके गाड़ी रुकवा लेता. क्योंकि जिन्हें वह नमस्ते करता, उन्हें लगता कि उनका कोई जानकार है. जैसे ही वह गाड़ी धीमी कर के साइड में करते, जावेद उनके नजदीक पहुंच पिस्टल सीने पर सटा देता. फिर इतनी ही देर में स्कूटी पर सवार दूसरा बदमाश पीछे वाली सीट पर बैठ जाता दिन-दहाड़े लूट की वारदात को अंजाम देकर फिर उसी स्कूटी से रॉन्ग साइड निकल फरार हो जाते. पुलिस को लंबे समय से इनकी तलाश थी.

Read more!

RECOMMENDED