scorecardresearch
 

झारखंड: 9 महीने की गर्भवती महिला की मौत, परिवार का आरोप- कोरोना वैक्सीन लगने के बाद गई जान

मामला दुमका के शिकारीपाड़ा प्रखंड क्षेत्र के कोलाईबाड़ी गांव का है. जहां 22 साल की गर्भवती आदिवासी महिला दुलड़ हेम्ब्रम घर से पैसे निकालने के लिए निकली थी. बताया जा रहा है कि लौटते वक्त वैक्सीन देने पहुंचे चिकित्सा कर्मियों ने महिला के मना करने के बावजूद उसे वैक्सीन की पहली डोज दे दी.

 पति का दावा- वैक्सीन लगने के बाद गई महिला की जान (मृतक महिला का परिवार) पति का दावा- वैक्सीन लगने के बाद गई महिला की जान (मृतक महिला का परिवार)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दुमका के शिकारीपाड़ा प्रखंड क्षेत्र के कोलाईबाड़ी गांव का मामला
  • वैक्सीन लगवाने के बाद बिगड़ी महिला की तबीयत

झारखंड के दुमका में एक 9 महीने की गर्भवती महिला की मौत हो गई. दावा किया जा रहा है कि महिला की जान कोरोना टीका लगने के बाद हुई. वहीं, डॉक्टर गौरव सोरेन ने भी सरकारी दस्तावेजों में मौत की वजह वैक्सीन के साइड इफेक्ट बताया है. डॉ गौरव सोरेन ने कोविशील्ड वैक्सीन के साइड इफेक्ट से तबीयत बिगड़ने की बात कही है. हालांकि, चिकित्सा प्रभारी डॉ एम सोरेन ने सिरे से नकार दिया. उन्होंने कहा, किसी अन्य वजह से महिला की मौत हुई. 

मामला दुमका के शिकारीपाड़ा प्रखंड क्षेत्र के कोलाईबाड़ी गांव का है. जहां 22 साल की गर्भवती आदिवासी महिला दुलड़ हेम्ब्रम घर से पैसे निकालने के लिए निकली थी. बताया जा रहा है कि लौटते वक्त वैक्सीन देने पहुंचे चिकित्सक कर्मियों ने महिला के मना करने के बावजूद उसे वैक्सीन की पहली डोज दे दी.

रात में बिगड़ी तबीयत
महिला ने अपने पति को वैक्सीन लगवाने की बात बताई. रात में महिला की तबीयत बिगड़ गई. पत्नी की गंभीर हालत को देख पति जोतिन मुर्मू 18 नवंबर की सुबह शिकारीपाड़ा स्वास्थ्य केंद्र में इलाज के लिए पहुंचा, जहां महिला की गंभीर हालत के चलते उसे फूलो झानो मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल दुमका रेफर कर दिया. यहां महिला और गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई.  जब पति ने पत्नी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट के लिए कहा, तो अस्पताल प्रबंधन ने उसके हाथ पत्नी का डेथ सर्टिफिकेट थमा दिया. मूर्मू ने घर ले जाकर अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार किया. 

अंतिम संस्कार के दूसरे दिन जोतिन मुर्मू ने न्याय की गुहार लगाई. आवेदन में उसने दोषी मेडिकल कर्मियों पर कार्रवाई और मुआवजे की मांग की है. उधर, डॉ एम सोरेन ने डोज से साइड इफेक्ट की बात से इनकार किया है. उन्होंने कहा, इस मामले में एक जांच टीम गठित कर जांच की बात कही है.
 

इनपुट- मृत्युंजय पांडेय

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें