साइंस न्यूज़

Speed of Big Cats: चीते की रफ्तार, बाघ की पकड़ और शेर की दहाड़ पर संदेह नहीं करते... कभी भी मात दे सकते हैं

ऋचीक मिश्रा
  • नई दिल्ली,
  • 16 सितंबर 2022,
  • अपडेटेड 12:18 PM IST
  • 1/9

चीते की अधिकतम गति 120 किलोमीटर प्रतिघंटा हो सकती है. आमतौर पर यह 100 से 112 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार में दौड़ता है. उसैन बोल्ट ने लंदन ओलिंपिक में 100 मीटर की रेस 9.58 सेकेंड में पूरी की थी. लेकिन चीता इसी दूरी को 5.95 सेकेंड में पूरी करता है. यानी बोल्ट से दोगुनी ज्यादा गति. हैरानी की बात ये है कि चीता अपनी अधिकतम गति में सिर्फ 1 मिनट ही दौड़ सकता है. इसी दौरान उसे अपने शिकार को ढेर करना होता है. चीता सिर्फ तीन सेकेंड में करीब 100 किमी प्रतिघंटा की गति हासिल कर सकता है. इतने ही समय में इसे घटाकर 22 किलोमीटर प्रतिघंटा कर सकता है. आइए जानते हैं उन जीवों के बारे में जो चीते के रिश्तेदार हैं. लेकिन उनकी गति, मार और दहाड़ चीते से कितनी अलग है. (फोटोः AP)

  • 2/9

जगुआर (Jaguar): चीते के रिश्तेदारों में अगर कोई जानवर उसके बाद सबसे तेज दौड़ता है तो वह है जगुआर (Jaguar). जिसे जूलॉजिकल भाषा में पैंथेरा ओन्का (Panthera Onca) कहते हैं. इसकी अधिकतम गति 80 किलोमीटर प्रतिघंटा होती है. यह अमेरिका और अमेजन के जंगलों में ज्यादा मिलते हैं. लंबाई अधिकतम 6 फीट होती है. पूंछ की तीन फीट अलग से. वजन करीब 159 KG होता है. चीतों की तरह ये भी बंदरों पर भी हमला कर देते हैं. (फोटोः फ्रिडा लैनरस्टॉर्म/अन्स्प्लैश)

  • 3/9

शेर (Lion): शेर के दौड़ने की गति भी अधिकतम 80 किलोमीटर प्रतिघंटा होती है. बड़े और भारी शरीर के बावजूद इसकी ताकत और दहाड़ जंगल में सबसे खतरनाक मानी जाती है. इसे ही जंगल का राजा बुलाया जाता है. इसकी लंबाई 10 फीट तक जा सकती है. वजन करीब 250 KG. शेर अफ्रीका और गुजरात में पाया जाता है. यह कई बड़े जानवरों की शिकार करने में सक्षम होता है. भैंसे तक को मार कर खा जाता है. (फोटोः पेक्सेल) 

  • 4/9

लिंक्स (Lynx): लिंक्स भी जगुआर और शेर की तरह 80 KM प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ता है. इसे अलग-अलग इलाकों में अलग-अलग नाम से बुलाते हैं. जैसे- यूरेशियन लिंक्स, बॉबकैट आदि. चीते के रिश्तेदारों में यह सबसे छोटी बिल्ली है. लंबाई 4.3 फीट तक जाती है. वजन अधिकतम 36 KG यानी गति मिलनी तय है. ये हिरण, चूहे और चिड़ियों पर भी हमला करता है. (फोटोः फेडरिको डी डियो/अन्स्प्लैश)

  • 5/9

कूगर (Cougar): कूगर, प्यूमा, पैंथर और माउंटेन लायन नाम से जानी जाती है जंगली बिल्लियों की ये प्रजाति. इनकी गति भी 80 KM प्रतिघंटा होती है. ये विलुप्त होने के कगार पर है. सिर्फ फ्लोरिडा में पाए जाते हैं. या उसके आसपास. इनकी लंबाई 8 फीट तक हो सकती है. वजन 59 से 68 KG तक हो सकता है. आमतौर पर हिरण खाते हैं. लेकिन भूख लगने पर किसी भी जीव पर हमला करके शिकार कर सकते हैं. (फोटोः प्रिशिला डू प्रीज/अन्स्प्लैश)

  • 6/9

बाघ (Tiger):  पैंथेरा टिगरिस (Panthera Tigris) यानी बाघ. 10 फीट लंबा और 300 किलोग्राम वजनी बाघ अधिकतम 64 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ सकता है. इसका वजन जंगल के राजा यानी शेर से भी ज्यादा होता है. प्यूमा से तीन गुना भारी. भारत, इंडोनेशिया, पूर्वी रूस और भूटान के पहाड़ों पर पाया जाता है. ये हिरण, जंगली सुअर समेत कई जीवों का शिकार कर लेता है. कहते है कि अगर बाघ ने पंजा मार दिया या गड़ा दिया तो उसकी पकड़ से निकलना मुश्किल होता है.  (फोटोः गेटी)

  • 7/9

स्नो लेपर्ड (Snow Leopard): बर्फीला तेंदुआ. अधिकतम गति 64 किलोमीटर प्रतिघंटा. 4.3 फीट लंबे स्नो लेपर्ड की पूंछ 3.3 फीट लंबी होती है. यानी कुल लंबाई 7.6 फीट. वजन करीब 54 KG. यानी कम वजन होने की वजह से तेज गति मिलती है लेकिन बर्फ में शिकार करना थोड़ा मुश्किल होता है. बर्फ पहाड़ी इलाकों पर ही मिलता है. इसलिए ये स्नो लेपर्ड मध्य एशिया, अफगानिस्तान और चीन के पहाड़ों पर मिलते हैं. जंगली भेड़ों, बकरियों का शिकार करते हैं. 

  • 8/9

क्लाउडेड लेपर्ड (Clouded Leopards): इनकी अधिकतम गति 64 किलोमीटर प्रतिघंटा होती है. ये आमतौर पर लेपर्ड की प्रजाति के हैं नहीं. इन्हें सिर्फ नाम दिया गया है. 3.4 फीट लंबे क्लाउडेड लेपर्ड का वजन अधिकतम 25 किलोग्राम हो सकता है. ये बंदरों और छोटे हिरणों को शिकार बनाता है. नेपाल, चीन से लेकर पूरे दक्षिण-पूर्व एशिया में मिलते हैं. संख्या कम है इसलिए शिकार पर प्रतिबंध लगाया गया है. (फोटोः गेटी) 

  • 9/9

तेंदुआ (Leopards): चीते से ज्यादा ताकतवर और खतरनाक बिल्ली. भारत और अफ्रीका में मिलते हैं. अधिकतम 6.2 फीट लंबे तेंदुओं की गति 58 किलोमीटर प्रतिघंटा तक होती है. वजन आमतौर पर 75 किलोग्राम तक जाता है. तेंदुए आमतौर पर रात में शिकार करते हैं. क्योंकि इन पर शेर और बाघ हमला कर देते हैं. यह किसी भी तरह के मीडियम साइज वाले जानवर को शिकार बना सकता है. कई बार ये इंसानों पर भी हमला कर देते हैं. (फोटोः अन्स्प्लैश)