सूचना विभाग में लगी प्रचार-प्रसार के लिए LED वैन में जालसाजी, करोड़ों वसूले

पुलिस ने जालसाजी से प्रचार-प्रसार का ठेका लेने वाली फर्म के दो मास्टरमाइंड भी गिरफ्तार किए हैं. आरोपी सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में लगी एलईडी वैन को अपनी बताकर करोड़ों का ठेका हासिल कर लिया था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
शिवेंद्र श्रीवास्तव
  • लखनऊ,
  • 08 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 12:00 PM IST

  • छह फर्मों के खिलाफ दर्ज हुई एफआईआर
  • मास्टरमाइंड सहित सभी आरोपी गिरफ्तार

कमीशनखोरी और जालसाजी के मकड़जाल ने उत्तर प्रदेश के सूचना विभाग को भी नहीं छोड़ा.  सूचना विभाग में लगी प्रचार-प्रसार के लिए एलईडी वैन में जालसाजी के मामले सामने आए हैं. जिसके लिए हजरतगंज में जालसाजी कर ठेका हासिल करने वाली छह फर्मों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है. पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

मास्टरमाइंड गिरफ्तार

पुलिस ने जालसाजी से प्रचार-प्रसार का ठेका लेने वाली फर्म के दो मास्टरमाइंड भी गिरफ्तार किए हैं. आरोपियों का नाम अमित और अतुल शुक्ला बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि आरोपी सरकारी योजनाओं के प्रचार-प्रसार में लगी एलईडी वैन को अपनी बताकर करोड़ों का ठेका हासिल कर लिया था. इन लोगों ने सरकार के ही प्रचार-प्रसार विभाग को लगा दिया.

कई फर्मों को लगाया चूना

पुलिस के मुताबिक इन आरोपियों ने ज्यादातर उन फर्मों को ठेका दिलावाया जिनके पास अपनी एलईडी लगी गाड़ियां नहीं थी. यही नहीं इस जालसाजी का खुलासा परिवहन विभाग के दस्तावेजों से हुआ.

बताया जा रहा है कि हजरतगंज में फिस्कॉन मीडिया, खेन्सा एडवरटाइजिंग, एडमायर पब्लीसिटी, मीडिया लॉजिक्स, मातेश्वरी इंटरप्राइजेज और काक्सा पब्लिसिटी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई. वहीं डिप्टी डायरेक्टर ने 6 फर्मो के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई. फिलहाल पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया. पुलिस उनसे पूछताछ कर रही है.

Read more!

RECOMMENDED