PMC बैंक पीड़ितों ने कहा- घोटाले से मतदान पर पड़ सकता है असर

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक में हुए घोटाले का असर महाराष्ट्र चुनाव पर देखा जा सकता है. बैंक घोटाले में मुलुंड कॉलोनी के लोग भी प्रभावित हुए है. दरअसल, इस इलाके में पीएमसी बैंक के लगभग 15,000 खाताधारक हैं.

पीएमसी बैंक के खाताधारकों का विरोध प्रदर्शन (फोटो-ANI)
मुस्तफा शेख
  • मुंबई,
  • 20 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 5:00 PM IST

  • खाताधारक बता रहे नेताओं को भी जिम्मेदार
  • वोट मांगने पहुंचे नेताओं से भी पूछे सवाल

पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक में हुए घोटाले का असर महाराष्ट्र चुनाव पर देखा जा सकता है. बैंक घोटाले में मुलुंड कॉलोनी के लोग भी प्रभावित हुए है. दरअसल, इस इलाके में पीएमसी बैंक के लगभग 15,000 खाताधारक हैं.

इंडिया टुडे ने इस क्षेत्र का दौरा किया ताकि पता लगाया जा सके कि निकासी पर प्रतिबंध के कारण लोगों का जीवन कैसे प्रभावित हुआ है. वहीं यहां के लोगों से बातचीत के बाद पीड़ित लोगों का कहना है कि पीएमसी बैंक का मामला महाराष्ट्र चुनाव में मतदान को प्रभावित कर सकता है.

कॉलोनी के निवासी और जनरल स्टोर की दुकान चलाने वाले 44 वर्षीय दिलीप गुप्ता ने बताया कि उनके परिवार के चार खाते पीएमसी बैंक में हैं. उन्होंने कहा कि मेरे 66 वर्षीय पिता की जीवनभर की कमाई बैंक में है. गुप्ता ने कहा कि बैंक के बोर्ड में राजनीतिक दलों से जुड़े नेता भी हैं. हमारी मदद न करने के लिए वे भी जिम्मेदार हैं. उन्होंने कहा कि हम नोटा दबाएंगे.

गिरीश किराना स्टोर चलाने वाले गिरीश पटेल ने कहा कि दिवाली का समय है, लेकिन लोगों के पास खरीदारी करने के लिए पैसे नहीं हैं. उन्होंने कहा कि इस समय तक हमारी दुकान में भीड़ रहा करती थी. पटेल ने कहा कि पीएमसी बैंक में हमारा भी चालू खाता है. बैंक के कर्मचारी सौहार्दपूर्ण थे और उन्होंने हमारी मदद की. उन्हें उसके लिए भुगतना पड़ रहा है, जो उनके उच्चाधिकारियों ने किया.

सिख समुदाय भी प्रभावित

पीएमसी बैंक के इस संकट से सिख समुदाय भी काफी ज्यादा प्रभावित हुआ है. अमर नगर स्थित एक गुरुद्वारे के कैशियर कुलवंत सिंह ने कहा कि वित्तीय सहायता की आवश्यकता होने पर लोग गुरुद्वारों की ओर रुख करते हैं, लेकिन मुंबई के 90% गुरुद्वारों का खाता पीएमसी बैंक में है. ऐसे में संकट है. उन्होंने कहा कि वोट मांगने आने वाले नेताओं से हमने अपने पैसे के संबंध में पूछा भी. सिंह ने कहा कि जिन लोगों का पीएमसी बैंक में खाता है, उनके लिए मतदान करते समय निश्चित रूप से यह एक मुद्दा होगा.

बैंक पर नहीं रहा लोगों को भरोसा

पीएमसी बैंक पर अब उसके ग्राहकों को भरोसा नहीं रहा. 60 वर्षीय कलविंदर कौर बताती हैं कि अपनी बेटी की शादी के लिए पीएमसी बैंक में 9.5 लाख की फिक्स्ड डिपॉजिट की थी. नवंबर में शादी होनी है, लेकिन बैंक में जमा पैसे मिलेंगे या नहीं, यह भरोसा नहीं. उन्होंने बेटी की कलाई दिखाते हुए कहा कि उसने तनाव में आत्महत्या का भी प्रयास किया. बैंक से पैसे वापस नहीं मिले तो उसकी शादी कैसे होगी, यही चिंता सताए जा रही है. कुलविंदर ने कहा कि बैंक मुझसे मदद के लिए गुरुद्वारा जाने के लिए कह रहा है. एजेंट निकासी की सुविधा के लिए 10000 रुपये मांग रहा था. हमें अब उस बैंक पर भरोसा नहीं है.

Read more!

RECOMMENDED