महाराष्ट्र चुनाव: हिंगोली जिले की 6 विधानसभा सीटों में से 4 पर बड़े दलों का कब्जा

हिंगोली लोकसभा के अंतर्गत 6 विधानसभा सीटें आती है, जिसमें उमरखेड और हिंगोली में बीजेपी का राज है जबकि किनवट में एनसीपी और हदगांव, वसमत में शिवसेना का कब्जा है. इसके अलावा कलमनुरी सीट पर कांग्रेस का राज है.

सांकेतिक तस्वीर
aajtak.in
  • हिंगोली ,
  • 09 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 12:59 PM IST

महाराष्ट्र के 36 जिलों में से एक हिंगोली जिला राज्य के मराठवाड़ा के उत्तरी छोर पर स्थित है. मराठवाड़ा कभी निजामों के अधीन था और हिंगोली तब परभानी जिले का तालुका हुआ करता था. हिंगोली शहर 1803 में टीपू सुल्तान और मराठा के बीच और 1857 में नागपुरकर और भदेल के बीच दो बड़े युद्धों का गवाह रहा है.

1999 में बना जिला

1956 में मराठवाड़ा को बॉम्बे स्टेट में शामिल किया गया और 1960 में महाराष्ट्र के रूप में नए राज्य के अवतरण के बाद परभानी जिले को इसमें शामिल कर लिया गया. 1 मई 1999 को परभानी जिले से अलग कर हिंगोली को नया जिला बना दिया गया. हिंगोली की सीमाएं उत्तर में वाशिम और यवतमाल. पश्चिम में परभानी और दक्षिण-पूर्व में नांदेड से लगती हैं.

4526 स्क्वायर किलोमीटर दायरे में फैले हिंगोली जिले में 3 प्रमुख भाषाएं (मराठी, हिंदी और उर्दू) बोली जाती हैं. कॉटन यहां की प्रमुख फसल है. हिंगोली जिले में 5 तहसील आती हैं.

2011 की जनगणना के मुताबिक हिंगोली जिले की आबादी 11,77,345 थी. जिसमें 6,06,294 पुरुष और 5,71,051 महिलाएं शामिल थीं. 2001 की जनगणना के मुताबिक जिले की आबादी 9,87,160 थी. महाराष्ट्र की कुल आबादी का 1.05 फीसदी आबादी इस जिले में रहती है.

धर्म के आधार पर कुल आबादी पर नजर डालें तो 73.32% आबादी हिंदुओं की है जबकि दूसरे नंबर पर बौद्ध धर्म मानने वाले लोग रहते हैं और इनकी आबादी जिले में 15.01 फीसदी है. मुस्लिम समाज की आबादी 10.83 फीसदी है.

जिले की साक्षरता 78 फीसदी

जिले की साक्षरता दर 78.17 फीसदी है, जिसमें 86.94 पुरुष तो 68.95 फीसदी महिलाएं शिक्षित हैं. जबकि प्रति हजार पुरुषों की तुलना में जिले में 942 महिलाएं हैं. हालांकि 2001 की जनगणना के मुताबिक जिले का लिंगानुपात 953 था.

हिंगोली लोकसभा के अंतर्गत 6 विधानसभा सीटें आती है, जिसमें उमरखेड और हिंगोली में बीजेपी का राज है जबकि किनवट में एनसीपी और हदगांव, वसमत में शिवसेना का कब्जा है. इसके अलावा कलमनुरी सीट पर कांग्रेस का राज है.

लोकसभा पर शिवसेना का कब्जा

मराठा और दलित समुदाय के दबदबे वाले हिंगोली लोकसभा सीट पर शिवसेना के हेमंत पाटिल सांसद हैं. उन्होंने इस साल मध्य में हुए चुनाव में कांग्रेस के सुभाषराव बापूराव वानखेड़े को 2,77,856 मतों के अंतर से हराया था. तब इस चुनाव में हेमंत पाटिल को 5,86,312 वोट जबकि वानखेड़े को 3,08,456 वोट मिले थे. जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के राजीव सातव चुनाव जीतने में कामयाब हुए थे.

इस लोकसभा सीट को लेकर दिलचस्प बात यह है कि यहां पर लंबे समय तक किसी भी पार्टी का कब्जा नहीं रहा है. कभी कांग्रेस, एनसीपी तो कभी शिवसेना को जीत मिलती रही है. बहुजन समाज पार्टी और भारतीय रिपब्लिकन पार्टी का भी इस क्षेत्र में दखल है और कांग्रेस और शिवसेना का समीकरण बिगाड़ती रही है.

फिलहाल हरियाणा के साथ-साथ महाराष्ट्र में भी विधानसभा चुनाव कराए जा रहे हैं. दोनों ही राज्यों में 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे जबकि 24 अक्टूबर को चुनाव के नतीजे आएंगे.

Read more!

RECOMMENDED