ई-वाहन को लेकर रोडमैप तैयार है, लोग आसानी से अपनाएंगे: सीतारमण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का कहना है कि सरकार देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने पर फोकस कर रही है. इसके पीछे सरकार की प्रबल इच्छाशक्ति और सही रोडमैप है, जिससे आम आदमी को इसे अपनाने में मुश्किलें नहीं होंगी.

इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने पर सरकार का जोर
अमित कुमार दुबे
  • नई दिल्ली,
  • 09 जुलाई 2019,
  • अपडेटेड 1:28 AM IST

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का कहना है कि सरकार देश में इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने पर फोकस कर रही है. इसके पीछे सरकार की प्रबल इच्छाशक्ति और सही रोडमैप है, जिससे आम आदमी को इसे अपनाने में मुश्किलें नहीं होंगी.

इंडिया टुडे के खास कार्यक्रम 'बजट राउंडटेबल' में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि बजट में इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर जो ऐलान किए गए हैं, उसको लेकर सरकार गंभीर है. स्टेप-बॉय-स्टेप इसे जमीन पर उतारने की कोशिश है, ताकि आम आदमी के लिए यह सुलभ साधन बन सके.

उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रिक वाहन को बढ़ावा देने के पीछे तीन सटीक कारण हैं, पहला- आज देश पूरी तरह से पेट्रोल और डीजल पर निर्भर है, इससे कुछ हद तक आजादी मिल जाएगी. दूसरा- इलेक्ट्रिक वाहन के प्रचलन बढ़ने से पब्लिक ट्रांसपोर्ट और बेहतर हो जाएगी. तीसरा-आज दुनिया भर में तमाम देश वायु प्रदूषण को कम करने के लिए ई-वाहन को अपना रहे हैं. ऐसे में अगर भारत में ई-वाहन पब्लिक ट्रांसपोर्ट की जगह ले लेता है तो ग्लोबल वार्मिंग के खिलाफ हम दूसरे देशों से आंखें मिला पाएंगे.

निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार ने मन बना लिया है, आने वाले समय में इस पर काम तेजी से होने वाला है. सरकार ने बजट में जो ई-वाहन को लेकर ऐलान किया है, उसे लागू करने के लिए बजट में कोई कमी नहीं होने दी जाएगी. साथ ही वित्त मंत्री ने कहा कि व्यवस्थाएं इस तरह की जाएंगी कि लोग इसे आसानी से अपना पाएं. उन्होंने कहा कि ई-वाहन को लेकर आम आदमी पर किसी तरह का कोई बोझ नहीं डाला जाएगा.

इसके अलावा इंडिया टुडे के कार्यक्रम में निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है और बजट में जो फैसले लिए गए हैं. उससे अर्थव्यवस्था को और ताकत मिलेगी. उन्होंने कहा कि बजट में हर सेक्टर और हर वर्ग का ख्याल रखा गया है.

उन्होंने कहा कि गांवों को मजबूत करने के लिए बजट में इंफ्रास्ट्रक्चर मजूबत करने पर जो दिया गया है. जब गांव-गांव तक बिजली पानी और सड़क की बेहतर सुविधाएं होंगी, तो लोगों आसानी से टेक्नोलॉजी को अपनाएंगे.

Read more!

RECOMMENDED