35 करोड़ में बना सीएम का 'ड्रीम होम', जानें बुलेटप्रूफ बाथरूम वाले इस बंगले के बारे में

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव अपने नए घर को लेकर चर्चा में हैं. सीएम का नया आशियाना बेगमपेट में उनके कैंप ऑफिस के बगल में ही बना है. राव अपने 'ड्रीम होम' गुरुवार को गृह प्रवेश करेंगे.

अपने नए बंगले को लेकर चर्चा में हैं सीएम केसीआर
रंजीत सिंह
  • नई दिल्ली,
  • 23 नवंबर 2016,
  • अपडेटेड 8:32 AM IST

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव अपने नए घर को लेकर चर्चा में हैं. सीएम का नया आशियाना बेगमपेट में उनके कैंप ऑफिस के बगल में ही बना है. राव अपने 'ड्रीम होम' गुरुवार को गृह प्रवेश करेंगे.

सीएम का नया बंगला एक लाख वर्ग फीट में फैला हुआ है. इसके रोशनदान और खि‍ड़कियों में बुलेटप्रूफ शीशे लगे हुए हैं. इस घर में सीएम के अलावा उनके बेटे केटीआर के लिए भी बेडरूम और बाथरूम हैं जिनमें हाई-क्वालिटी के ग्लास लगाए गए हैं. इस बंगले के कमरों में बैठे-बैठे बाहर की चीजें दिखाई देंगी.

बताया जा रहा है कि खुफिया एजेंसियों की सिफारिश पर सीएम के नए घर में बुलेटप्रूफ शीशे इस्तेमाल किए गए हैं. करीब 35 करोड़ रुपये की लागत से बने इस घर में 300 कारों की पार्किंग की व्यवस्था है. बंगले के अहाते की दीवारें काफी ऊंची हैं जिससे किसी के चोरी छुपके दाखिल होने की भी कोई गुंजाइश नहीं है.

सीएम राव को जेड प्लस सिक्योरिटी मिली है. वो 'माइन-पूफ्र' कारों में चलते हैं यानी बारूदी सुरंग विस्फोट में भी उनकी कार का बाल बांका नहीं हो सकता है. सीएम के नए घर की सुरक्षा में 50 के करीब पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे जो दिन-रात नजर रखेंगे. बंगले में घुसने वाले हर शख्स की तलाशी ली जाएगी और उसका मोबाइल फोन, घड़ी और मेटल के अन्य सामान बाहर ही जमा कर दिए जाएंगे.

बंगले में 250 सीटों वाला मल्टी-परपज ऑडिटोरियम और 100 सीटों वाला कॉन्फ्रेंस हॉल भी है. वास्तुशास्त्र के जानकार एस सुधाकर तेजा से सलाह के बाद सीएम ने इस घर के डिजाइन को मंजूरी दी थी. मुख्यमंत्री इस साल दशहरे के मौके पर ही नए घर में जाना चाह रहे थे लेकिन तैयारियां पूरी नहीं होने की वजह से ऐसा नहीं हो सका था.

सीएम के बंगले में ही उनके पर्सनल और सिक्योरिटी स्टाफ के क्वार्टर होंगे. इस बंगले को बनाने की जिम्मेदारी मुंबई स्थ‍ित मशहूर रियलिटी कंपनी शपूरजी पल्लोनजी ग्रुप को दी गई थी. इस ग्रुप के मालिक साइरस मिस्त्री के पिता हैं. साइरस मिस्त्री को हाल में टाटा ग्रुप के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था.

सीएम के नए बंगले में चले जाने के बाद मौजूदा कैंप ऑफिस विधानसभा के स्पीकर और विधान परिषद के चेयरमैन को आवंटित कर दिया जाएगा. आईएएस ऑफिसर्स एसोसिएशन की इस जमीन को सरकार ने इस मकसद से लिया था. इसके बदले में सरकार ने आईएएस अफसरों के लिए नया क्लब हाउस देने का प्रस्ताव रखा था जो सीएम के मौजूदा कैंप ऑफिस के पास है.

सीएम का भारी-भरकम चढ़ावा मुख्यमंत्री इस महीने तिरुमला दर्शन के लिए जाने की योजना बना रहे हैं जहां वो भगवान वेंकटेश्वर स्वामी की प्रतिमा पर दो नेकलेस चढ़ाने वाले हैं. सीएम विजयवाड़ा में कनकदुर्गा मंदिर और तिरुचानुरु में पद्मावती मंदिर में भी चढ़ावा चढ़ाने जाने वाले हैं. राव ने तेलंगाना को अलग राज्य का दर्जा मिलने पर चढ़ावा चढ़ाने की मन्नत मांगी थी. दिलचस्प है कि इस चढ़ावे का खर्च राज्य के सरकारी खजाने से हो रहा है.

बीते अक्टूबर में दुर्गापूजा के मौके पर मुख्यमंत्री और उनके परिवार ने वारंगल में देवी भद्रकाली को 11.7 किलो सोना चढ़ाया था. इसकी कीमत करीब तीन करोड़ रुपये थी.

Read more!

RECOMMENDED